उपन्यास - अद्-भूत The horror, suspense, thriller [Email this] English Version-> [Aghast]
उपन्यास - शून्य The suspense, thriller [Email this] English Version->[Zero]
उपन्यास - ब्लैकहोल The Mystery, horror, suspense Email this English Version->[Black Hole]
उपन्यास - ई लव्ह The suspense, thriller Email this English Version->[eLove]
उपन्यास -मधुराणी Story of a femine power [Email this] English Version-> [Honey]
उपन्यास - मृगजल The psychological suspense, thriller Email this

Hindi new books - Novel - Madhurani CH-1 - 'स्ट्रेट ट्रीज आर कट र्फस्ट'

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English



 Read Novel - मधुराणी - Hony -  on Google Play Books Store

Read some selected Feedbacks -   प्रतिक्रिया 


Hindi new books - Novel - Madhurani CH-1 - 'स्ट्रेट ट्रीज आर कट र्फस्ट'

CH-2  CH-3  CH-4  CH-5  CH-6  CH-7 CH-8  CH-9  CH-10  CH-11  CH-12  CH-13  CH-14 CH -15 CH-16 CH-17 CH-18 CH-19 CH-20 CH-21 CH-22 CH-23 CH-24 CH-25 CH-26 CH-27 CH 28 CH-29 CH-30 CH-31 CH-32  CH-33 CH-34 CH-35 CH-36 CH-37 CH-38 CH-39 CH-40 CH-41 CH-42 CH-43 CH-44 CH-45 CH-46 CH-47 CH-48 CH-49 CH-50 CH-51 CH-52 CH-53 CH-54 CH-55 CH-56 CH-57a CH-57b CH-58 CH-59 CH-60

गणेशराव नहा धोकर अपने कपडे पहन रहे थे. सफेद रंगका टेरीकॉटसे बना हुवा नेहरु शर्ट और सफेद उसी कपडेसे बना हुवा पैजामा. उनके शरीरके हरकतोंसे उम्रके लिहाजसे उनका शरीर कुछ जादाही थका हुवा लग रहा था. क्या करेंगे बेचारे उम्र से ज्यादा बीपी, शूगर, अॅसीडीटी ऐसे अलग अलग बिमारीयोंनेही उन्हे परेशान कर रखा था. उन्हे याद आया ...

जब मै जवान था तब पँट शर्ट पहनता था ...

वह भी शुरुवाती दिनोंमे इन वैगेरे करते हूए .... एकदम साफ दुथरे ढंगसे ...

सचमुछ आदमीमें धीरे धीरे कैसा बदलाव आता है ...

अपने चारो ओरके मौहोलका आदमीपर कितना बडा असर होता है ...

इधर गणेशरावकी कपडे पहननेकी जल्दी चल रही थी तो उधर रसोईघरमें उनके बिवीकी बर्तनोकें आवाजके साथ मुंहसे बकबक चल रही थी - हमेशा की तरह.

" 25 साल होगए नौकरी कर रहे है और ... इतने दिनोंमे क्या हासिल किया तो डीपार्टमेंटमें थोडीभी पहचान नही ... अच्छा खासा तालूकेका गाव था ... और उपरसे अपना घरभी यहांही है ... उठा दिया उन लोगोंने और ट्रान्सफर कर फेंक दिया 70 किलोमिटर दूर ... किसी देहातमें ... मतलब हमेशाकी मुश्किल दुर होगई ... मैने कितनी बार कहा ... जादा इमानदारी कुछ कामकी नही ... इमानदार लोगोंको ही इस तरह भूगतना पडता है ''

गणेशरावके दिमागमें एक मुहावरा आगया - 'स्ट्रेट ट्रीज आर कट र्फस्ट' ...

यह मेरे बारें मे लागू होता है क्या ?...

होता है थोडा थोडा ...

किसका वाक्य है यह ?...

किस किताबसे है ?...

कुछ याद नही आ रहा है ...

लेकिन इसी मतलबका कुछ अपने चाणक्यनेभी संस्कृतमें लिख रखा है ...

उसके बिवीकी बकबक अभीभी चल रही थी, "... लेकिन सुनता कौन है ... मै अनपढ जो ठहरी ... किताबोंके ज्ञानसे व्यावहारीक ज्ञान कभीभी श्रेष्ठ होता है ... लेकिन सुनता कौन है मेरी ..."

लेकिन अब गणेशरावसे रहा नही गया. किताबी ज्ञानका उल्लेख उनपर सिधा हमला बोल गया था.
" ... अब तूम जरा तुम्हारी फालतू बकबक बंद करोगी ... अब जाही तो रहा हूं ... उसके लिएही तो बंगलेपर जा रहा हूं ..."वे चिढकर बोले.

" मतलब मेरा बोलना आपको फालतू बकबक लगता है ... इतने सालसे अपनी गृहस्थी मै ही तो संभालती आई हूं ...पिछले बार मेरे भाईने अगर मदत नही की होती तो ना जाने कहा तबादला कर फेंक दिए जाते सडने के लिए ..."

" वह तुम्हारा फेंकु भाई ... कैसी मदत करता है ... उंची उंची फेंकता है सिर्फ "
गणेशरावभी अब झगडनेके मूडमें आये थे.

" देखो ... मै बताके रखती हूं ... मेरे मायकेके बारेंमें कुछ नही कहना "उनके बिवीने कहा.

" और अगर बोला तो क्या करोगी... मुझे छोड दोगी.."

'' वही चाहिए ना तुम्हे... छोडनेके बाद दुसरीसे शादी करनेके लिए''

तभी अंदरसे 25-26 सालका उनका लडका विन्या वहां आगया. वह अच्छा खासा ताकदवर गबरु जवान था और चेहरेसे एकदम कठोर था.

" ए चूप ... एकदम चूप" वह जोरसे चिल्लाया.

" साला ... यहां जीना मुष्किल कर दिया इन बूढों ने "

तब कहा दोनो एकदम चुप हो गए.

अब क्या कहना है इस आजकलके लडकोंको ...

एकदम बुढा कहता है मां बापको ...

लेकिन जानेदो कमसे कम अबभी 'आप' वैगेरा कहनेका लिहाज बाकी है उसमें ...

उतनेपरही संतोष मानना चाहिए ...

उनके लडकेने एक दो बार गुस्सेसे अंदर बाहर किया और गणेशरावका अबभी धीमी गतीसे चल रहा है यह देखकर गुर्राया , " तो बंगलेपर जाना है ना ?"

" हां ... यह देखो हो ही गया है " गणेशराव जल्दबाजी करते हुए बोले.

" और सिर्फ तुम्हारे ट्रान्सफरका लेकर मत बैठो ... मेरे नौकरीकाभी देखो ... वही सबसे महत्वपुर्ण है "

" हां ..." गणेशरावके मुंहसे निकला.

विन्या काला टी शर्ट और निचे जिन्सका पँट पहनकर तैयार था.

" तूम ये कपडे पहनने वाले हो ?... "

" हां .. क्यों क्या हुवा ?... "

" वह दिवालीमें खरीदा हुवा ड्रेस पहनतेतो ... उन लोगोंके सामने यह टी शर्ट और यह पँट अच्छा नही लगेगा.."

" अच्छा नही लगेगा ?... उनको कहना यह ऐसा है मेरा लडका ... और आजकल यही फॅशन है "

" अरे लेकिन ... "

" आप मेरे कपडेबिपडेका मत देखो ... उनसे क्या बात करना है ... कैसी बात करनी है वह देखो बस ."

गणेशराव कुछ नही बोले. उन्होने सिर्फ 'अब इसे क्या कहा जाए ?' इस तरह अविर्भाव करते हूए सिर्फ हवामें हाथ लहराया.

क्रमश:

Perfection is achieved, not when there is nothing more to add, but when there is nothing left to take away.
ntoine de Saint-Exupry

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

3 comments: