उपन्यास - अद्-भूत (संपूर्ण) The horror, suspense, thriller [Email this] English Version-> [Aghast]
उपन्यास - शून्य (संपूर्ण) The suspense, thriller [Email this] English Version->[Zero]
उपन्यास - ब्लैकहोल (संपूर्ण) The Mystery, horror, suspense Email this English Version->[Black Hole]
उपन्यास - ई लव्ह (संपूर्ण) The suspense, thriller Email this English Version->[eLove]
उपन्यास -मधुराणी (संपूर्ण) Story of a femine power [Email this] English Version-> [Honey]
उपन्यास -मधुराणी (Current Novel)
Story of a femine power
English Version->[Honey]
Yes! You can Publish your Novel on this Blog! --> Details Here.

Ch-27: तफ्तीश (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

... जल्दी जल्दी जॉन लिफ्टसे बाहर निकल गया. अचानक वक्त पर आए फोनसे वह औरभी चिढसा गया था.

लेकिन क्या कर सकते थे ड्यूटीही वैसी थी...

किस पल कहा जाना पडेगा कुछ बोल नही सकते थे....

बेचारे अँजेनीको क्या लगा होगा ?..

वह सोचमें डूबा सिधा उटीन हॉपरके फ्लॅटमें घुस गया. वह आनेके पहलेही सॅम उसके टीमको लेकर वहां हाजीर हूवा था. वह सिधा फ्लॅटके बेडरूममें गया. उसके पिछे पिछे सॅमभी बेडरूममें गया. सामने बेडपर डरके मारे खुला हूवा मुंह और बडी बडी आंखे ऐसे स्थीतीमें खुनसे सना उटीनाका मृतदेह पडा हूवा था. और सामने दिवारपर उटीनाके खुनसे एक बडासा शुन्य निकाला हूवा था.

उस शुन्यके बिचोबिच लिखा था " अगर शून्य ना होता तो ? ".

जॉन वह संदेश बार बार पढने लगा. .

खुनीको क्या कहना है ?... उस संदेश मे क्या कुछ छिपा अर्थ था...?...

वह सोचने लगा.

" खुनका समाचार किसने दिया ?" जॉनने सॅमको पुछा.

" सर फोनपर कोई अज्ञात इसम था. उसने अपना नाम नही बताया. हमनें कॉलभी ट्रेस करके देखा वह इसी एरीयामें एक पब्लीक बूथका था. " सॅमने जानकारी दी.

सॅम अपने काममे हमेशा प्रॉम्प्ट था.

" खून होकर जादा वक्त नही बित गया होगा " जॉनने अपना तर्क लगाया.

" हां सर , हम आए तब खुन बहही रहा था... इसलिए हमने आसपास सब तरफ खुनीको तलाशा.' सॅम बोल रहा था.

" कुछ मिला ? " जॉनने आगे पुछा.

" इन दोनोंकोतो कुछ नही मिला " सॅम कमरेमें उपस्थीत अपने दो साथीयोंकी तरफ निर्देश करके बोला.

" और तिन लोग देखनेके लिए गए है... अभीतक वापस नही आए " सॅमने आगे बताया.

जॉनने वहा उपस्थित सबको ताकीद दी,

" देखो, यह एकके बाद एक तिसरा खुन है... अभीतक हाथमें कुछ नही मिल रहा है... अगर ऐसाही चलता रहा तो कैसे होगा... कुछ भी करो ... इस बार हमें खुनी मिलनाही चाहिए...."

तभी सांस फुली हूई अवस्थामें उनके दो साथी फ्लॅटमे दाखील हूए.

सब लोग उनकी तरफ उम्मीदसे देखने लगे.

" सर, बिल्डींगके पिछवाडे निचे जमीनपर एक डेड बॉडी पडी हूई है... " उनमेंसे एकने बडी बडी सासें लेते हूए कहा.

" सर, शायद कोई उपरसे निचे गिर गया है... मुझे लगता है... वही खुनी होगा... " दुसरेने कहा.

" सॅम, तूम यही रुककर इन्व्हेस्टीगेशन कंटीन्यू करो... मै इनके साथ निचे जाकर आता हूं " जॉन उनके साथ फ्लॅटसे बाहर जाते हूए बोला.

... to be contd..

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-26: ऋषी (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

... हिमालयमें उस पर्बत के तले बह रहे नदी के किनारे जो गुंफा थी उस गुंफामें अभीभी वह ऋषी ध्यानस्त बैठा हूवा था. अचानक उसने अपनी आंखे खोली. उसकी आंखे लाल लाल मानो आग उगल रही थी. धीरे धीरे उसके आंखोकी लाली कम होगई और उसकी आंखे फिरसे बंद हो गई. और फिरसे जगह और अपने शरीर से अनजान उनकी सुक्ष्म अस्तीत्वका विचर अपनी मर्यादाए लांघकर मुक्त रुप से होने लगा.

एक जंगलमें एक पर्णकुटी थी. पर्णकुटीके सामने आंगनमें तिन लोग बैठे हूए थे. वे आपसमें कुछ बाते और चर्चा कर रहे थे. उन्होने उनके सामने छोटी छोटी लकडीयोंके छोटे छोटे समुह बनाये थे. एक समुहसे लकडीयां निकालकर दुसरे समुहमें डालना या फिर एक समुहसे लकडीया निकालकर उसका दुसरा समुह बनाना ऐसा उनका चल रहा था. ऐसा करते हूवे वे आपसमें चर्चाभी कर रहे थे. उनके हावभावसे ऐसा प्रतित हो रहा था की वे उनकी किसी दूविधाके बारेमें बात कर रहे हो. उतनेमें उनके पिछेसे वह ऋषी आगया. उसकी आहट होतेही वे तिनो मुडकर उसकी तरफ देखने लगे.

ऋषीने तिनोंपर अपना दृष्टीक्षेप डाला.

" मुझे पता है तुम लोग किस दूविधामें हो " ऋषीने गूढ अंदाजमें कहा.

तिनोंके चेहरेपर आश्चर्य झलकने लगा.

हमारे मनमे क्या चल रहा है यह इस ऋषीको कैसे पता. ?...

वे कुछ बोले उससे पहलेही वह ऋषी चलते हूए उनके पाससे सामने निकल गया. वे उस ऋषीकी जाती हूई आकृतीको देखने लगे.

ऋषी एकदम रुक गया और उनकी तरफ मुडकर बोला , " चिंता मत करो मै तुम्हे तुम्हारी दुविधासे जल्दीही तुम्हे मुक्त करुंगा "

वह ऋषी फिरसे मुडकर अपना रास्ता चलने लगा. वे तिनो खुले मुंहसे आश्चर्यसे उस ऋषीकी जाती हूई आकृतीको वह आकृती अदृष्य होनेतक देखते रहे....

क्रमश:...

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-25: घात प्रतिघात (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

तेजीसे सब कुछ निपटाकर कमांड1 फ्लॅटके दरवाजेसे दौडकर लिफ्टके पास गया. थोडीही देर पहले उसे सायरनका आवाज बिल्डीग के निचे आकर बंद हूवा ऐसा महसूस हूवा था. उसने लिफ्टके डिस्प्लेपर देखा. लिफ्ट उपर आ रही थी. वह घबरा गया.

कही पुलिस बिल्डींगमें तो नही आए ?..

और शायद वह उपर ही आ रहे थे ...

उसके चेहरेपर अब डर झलकने लगा था. क्या करे कुछ सुझ नही रहा था. उसने इस डरे हूए हालतेमेंभी तेजीसे फैसला लिया और वह सिढीयोंसे उपरकी तरफ दौडने लगा. थोडी देरमें उसके खयालमें आया की दौडते हूए उसके जुतोंका आवाज हो रहा है. उसने अपने जूते निकालकर वही छोड दिए और वह वैसेही उपर तेजीसे दौडने लगा. दौडते हूए निचे क्या हो रहा होगा इसकी तरफ भी उसका ध्यान था. आखीर वह बिल्डींगके टेरेसपर आकर पहूंच गया. टेरेसपर उसने इधर उधर देखा. उपर चमचमाते चांदनीसे भरा आकाश और आजूबाजू चमचमाते इलेक्ट्रीक लाईटसे भरा शहर. दौडनेके वजह से वह हांफ रहा था और उसे पसीना आया था. उपर ठंडी हवा चल रही थी. पसिनेसे सने उसके गरम शरीर को वह ठंडक पहूचा रही थी. उसे थोडी राहतसी महसुस हूई. लेकिन रुकनेके लिए वक्त कहां था? बिल्डींगके सामनेकी तरफ उसने झांककर देखा. बिल्डींगके सामने पुलिसकी गाडी खडी थी. गाडीके पास तीन हथीयारोंसे लेस पुलिस खडे थे. उसे एक समझमें नही आ रहा था की -

खुनके बारेमें पुलिस को पता कैसे चला ?...

ऐसाभी हो सकता है की वे दुसरेही किसी जुर्मके सिलसिलेमें वे वहां आये हों...

लेकिन वह अगर दूसरे किसी अपराधके सिलसिलेमें यहां आए होंगे और ऐसेमे अगर मै पकडा गया तो वह एक घोर इत्तेफाक ही कहना पडेगा...

लेकिन उसे पुरा भरोसा था की बॉसने दिए वक्तमें ऐसी अनहोनी नही होनी थी. अबतक ऐसा कभी नही हूवा था..

अब यहांसे कैसे खिसका जाए?...

वह सोचने लगा.

एक बात पक्की थी की बिल्डींगके सामनेसे खिसकना लगभग नामुमकीन था...

दुसरा कोई विकल्प ढूंढनेके लिए वह इधर उधर देखने लगा. बिल्डींगके दाए बायेंसेभी निकलना मुमकीन नही था. एक तो उतरनेको कुछ नही था और किसी तरह उतरो तो पुलिसके सामनेसेही जाना पड सकता था. फिर कमांड1 धीरे धीरे बिल्डींगके पिछले हिस्सेमें आकर वहांसे निकलनेके बारेंमे ताकझाक करने लगा. पिछे उतरनेको पाईप थे. वह देखकर उसके जानमें जान आ गई. लेकिन पिछे दुसरे एक बिल्डींगपर लगे सोडीयम लँपकी रोशनी पड रही थी. इसलिए उतरते वक्त किसीके नजरमें आना मुमकीन था. वह और कुछ विकल्प है क्या इसके बारेंमें सोचने लगा. उसके पास जादा वक्त नही था.

अगर गलतीसेभी पुलीस यहा टेरेसपर आ गई तो ?...

तो वह अपने आप ही उनके कब्जेमें आनेवाला था....

उसने बिल्डींगका पिछला हिस्सा निचे उतरनेके हिसाबसे और एकबार ठिक ढंगसे देखने का फैसाला किया. इसलिए वह पिछे के तरफ की पॅराफिट वॉलपर चढ गया. पाईप उपरसे निचे जमीनतक थे. शायद ड्रेनेज पाईप थे. पाईपपर जगह जगह किले लगाए हूए थे इसलिए उतरने के लिए पकडना आसान था. अचानक उसके खयालमें आया की उसके पिछे टेरेसपर कुछ हरकत हूई है. जबतक वह पलटकर देखता एक काला साया उसपर झपट पडा और उसने पुरा जोर लगाकर कमांड1को टेरेसके निचे धकेला. इस अचानक हूए हमलेसे कमांड1 गडबडा गया. उसे खुदको संभालनेकाभी वक्त नही मिला. वह बिल्डींगसे निचे गिरने लगा. गिरते वक्त उसका चेहरा उपर टेरेसकी तरफही था. वह काला साया टेरेससे झुककर उसे निचे गिरता हूवा देख रहा था. पिछेसे आ रहे सोडीयम लॅंप के रोशनीमें उसे उस काले साएका चेहरा दिखाई दिया. वह उस चेहरेकी तरफ आंखे फाडफाडकर देखने लगा. इधर निचे गिरकर मरनेका डर और सामने उस काले साए का चेहरा देखकर उसके डरमें और आश्चर्यमें जैसे औरही इजाफा हो रहा था.

वह चेहरा कमांड2का था ...

उसे विश्वासही नही हो रहा था....

उसने एकबार फिरसे तसल्ली कर ली.

हां वह चेहरा, उसका दोस्त जिसपर उसने पुरी तरहसे भरोसा किया था उस कमांड2काही था...

लेकिन उसने ऐसा क्यों किया ?...

वह उस सवालपर सोचकर कुछ नतिजेतक पहूंचनेके पहलेही वह निचे फर्शपर गिर गया. लगभग 15-16 माले उपरसे निचे गिरकर उसके सरके टूकडे टूकडे हूए थे और तत्काल उसकी जान चली गई थी. इधर उपर उसे निचे गिरते हूए देख रहे कमांड2के चेहरेपर एक गुढ मुस्कुराहट बिखेर गई.



क्रमश:...

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-24: मिस उटीन हॉपर (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

बेडरूममे धुंधलीसी रोशनी थी. बेडपर कोई सोया हूवा दिखाई दे रहा था. एक काले सायेने धीरे धीरे बेडरूममे प्रवेश किया. आतेही बेडरुममे इधर उधर देखते हूए वह साया दरवाजेके पास दिवारपर कुछ ढूंढने लगा. शायद वह कमरेके बल्बका स्वीच ढूंढ रहा था. दिवारपर टटोलनेके बाद उस सायेको एक जगह कुछ इलेक्ट्रीकके स्वीच मिल गए. वह साया एक एक स्वीच दबाकर देखने लगा. आखीर एक बटन दबानेके बाद कमरेका बल्ब जल गया और कमरेमे रोशनी हो गई. वह रोशनी सायेके शरीरपर भी पड गई. एक खुशीकी मंद मंद मुस्कान उस सायेके चेहरेपर दिखने लगी - बल्ब का स्वीच मिलने की खुशी.

वैसे देखा जाए तो बल्ब का स्वीच मिलना यह घटना वह साया जिस कार्यके लिए आया था उसके मुकाबले एक साधारणसी घटना....

लेकिन आदमीका स्वभाव कितना अजीब होता है...

खुशी मनानेका एक भी मौका वह दौडना नही चाहता...

हां, उसकी खुशी की परिभाषा अलग अलग हो सकती है...

अच्छी कृतीमेंही उसे आनंद मिलता है... .

लेकिन फिर उसकी अच्छे बुरे की परिभाषा अपनी अपनी... .

दुसरेके नजरीयेसे गलत कामभी उसके लिए अच्छा हो सकता है..

वह बेडरुममे आया साया दुसरा तिसरा कोई ना होकर कमांड1 था. बेडरुममें रोशनी होतेही बेडपर सोई हूई औरत जग गई और भौचक्कीसी इधर उधर देखने लगी. शायद वह उतनी गहरी निंदमे नही होगी. सामने हाथमें पिस्तौल लिए खडे कमांड1को देखतेही व घबरा गई. डर के मारे उसके हाथपैर कांपने लगे. वह अब जोरसे चिखनेही वाली थी की कमां1ने उसके पिस्तौलका ट्रीगर दबाया. पिस्तौलको शायद सायलेंन्सर लगाया होगा क्योंकी 'धप्प' ऐसा आवाज आया और सामनेकी औरत बेडपर अचेतन होकर गिर गई. उसका चिखनेके लिए खुला मुंह खुला की खुला ही रह गया.

अब कमांड1का चेहरा खुशीसे खिल गया.

" मिस उटीन हॉपर ... आय अॅम सॉरी. मरना यह तुम्हारे तकदिरमें विधातानेही लिखा था... मै कौन तुम्हे मारने वाला ... मै तो सिर्फ उसके हाथ की एक कठपुतली... " कमांड1 खुदसेही बोल रहा था.

झटसे कमांड1ने अपने कोटके दाए जेबसे एक नुकीला छुरा निकाला और खचाखच उसके निश्चल पडे शरीरपर खंजर के वार किए. जब वह खंजर पुरी तरहसे उटीनाके गर्म खुनसे सन गया तभी वह रुका. फिर वह आगे जाकर दिवारपर उस खुनसे लिखने लगा. दिवारपर एक बडा शून्य निकालकर वह आगे लिखनेहीवाला था की दूर कही उसे पुलिसके गाडीका सायरन सुनाई देने लगा. कमांड1ने खिडकीसे बाहर झांका. आवाज अभीभी दूर था. उसने जल्दी जल्दी वह खंजर फिरसे उटीनाके खुनमें डूबोया और दिवारपर वह आगेका लिखने लगा.


to be contd..

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-23: हॅपी बर्थ डे (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

अँजेनी गहरी निंदमे थी. निंदमें उसका मासूम चेहरा और ही खुलकर निखरा हूवा दिख रहा था. निंदमेंही उसने अपनी करवट बदली. करवट बदलनेकी वह अदा भी दिल पिघला देनेवाली थी. इतनेमें उसेक फ्लॅटके दरवाजे की बेल बजी. उसने फिरसे करवट बदली. फिरसे दरवाजेकी बेल बजी. अब वह निंदसे जाग चूकी थी. उसेने अपनी आंखे मसलते हूए खिडकीके बाहर झांका. काला घना अंधेरा और शहर के दिए किसी टीमटीमाते तारोंकी तरह दिख रहे थे. उसने अंगडाई लेते हूए दिवारपर टंगे घडी की तरफ देखा. घडीमें बारा बजनेको एक-दो मिनट बाकी थे. फिरसे उसके दरवाजेकी बेल बजी. रातके बारा बजनेको आए. इतने रात गए कौन होगा?

वह अपने बिखरे बाल संवारते हूए बेडसे निचे उतर गई. अपने कपडे ठिक करते हूए और कौन आया होगा यह सोचते हूए वह सामने हॉल के दरवाजेकी तरफ जाने लगी. उसने दरवाजेके कीहोल से देखा. गलियारेमें अंधेरा होनेसे कुछ दिख नही रहा था. उसने दरवाजेकी चेन लगाकर कुंडी खोली और दरवाजा तिरछा करते हूए बाहर झांकने लगी. बाहर जॉन खडा था.

इतने रात गए किसलिए आया होगा ?...

" जॉन! इतने रात गए ? " वह दरवाजा खोलते हूए बोली.

जॉन मुस्कुराते हूए अंदर आया. उसके दोनो हाथ पिछेकी तरफ थे. शायद वह कुछ छिपा रहा था. उसने अंदर आतेही पिछे छिपाया हूवा एक फुलोंका बडासा गुलदस्ता निकाला और दुसरे हाथसे उसे उठाते हूए बोला,

" हॅपी बर्थ डे टू यू...

हॅपी बर्थ डे टू यू अँजेनी...

हॅपी बर्थ डे टू यू"

अँजेनीने दिवार पर टंगे घडीके तरफ देखा. बारा बजकर एक मिनट हो चूका था और घडीमे तारीख थी 16 ऑगष्ट; उसका जनमदिन ! अँजेनीके आंखोमे आंसू तैरने लगे.

" तुझे कैसे पता चला ? " वह प्रेमभरी नजरोसे उसके तरफ देखकर बोली.

" मॅडम यह मत भुलो की हम पुलिसवाले है और हमारे पास तुम्हारे सारे रेकॉर्डस् है. " जॉन मुस्कुराते हूए बोला.

" ओ जॉन थँक यू" वह जॉनके गालको चूमते हूए बोली.

जॉनने उसे कसकर अपनी बाहोंमे भरकर निचे उतारा. फिर दोनों एकदूसरेके होठोंको आवेशमें चूमने लगे.

' सोई हूई थी" जॉनने पुछा.

" हां " उसने कहा.

" यह तुम्हारा अच्छा है... उधर तूमने हमारी निंद उडाई और इधर तूम चैनसे सो रही हो. " जॉन मस्करी करते हूवे बोला.

" मैने ? " वह मुस्कुराते हूए बोली.

" हां ... आधी निंद तुमने उडाई और आधी उस खुनीने.. " जॉनने खिलखिलाकर हंसते हूए कहा.

अँजेनी मुस्कुराई; यत्नपुर्वक शायद झूट झूट. खुनीका जिक्रभी होनेपर उसे सानीकी याद आती थी.

अब दोनो एकदूसरेके कमरमें हाथ डालकर बेडरुमकी तरफ चल पडे.

" क्या कुछ लोगे? चाय कॉफी? " उसने पुछा.

" हां लूंगा ना. लेकिन चाय कॉफी नही. "

" फिर ? " उसने पुछा.

बेडपर बैठते हूए उसने उसके होठोंका एक कसकर चुंबन लिया. फिर दोनो एकदुसरेको बाहोंमे भरकर बेडपर लेट गए. अचानक फिर अँजेनीको क्या लगा पता नही. वह जॉनका चेहरा अपने दोनो हाथोमे लेकर उसकी तरफ एक टक देखने लगी. उसकी आंखे आंसूओंसे भर गई.

" क्या हूवा ?" जॉनने उसकी पिठपर अपना हाथ फेरकर कहा.

वह कुछ नही बोली.

" सानीकी याद आ रही है.? " जॉनने उसके चेहरेपर आई लटे ठिक करते हूए पुछा.

" सच ... तूम कौन , कहांसे आए, कैसे मेरे जिंदगीमें आते हो और मेरी तबाह होती हूई जिंदगी संवारते हो. सबकुछ कैसे जैसे पहलेसे तय हो..' वह आंखोमें आंसू लिए बोल रही थी.

जॉनने भावावेशसे से उसे भीरसे बांहोमें भर लिया.

" तूम चिंता मत करो. धीरे धीरे सबकुछ ठिक हो जाएगा" वह उसके पिठपर थपथपाते हूए उसे सांत्वना देते हूए बोला.

अँजेनी जॉनके सिनेपर अपना सर रखकर उसके सिनेके बालोंसे खेलते हूए उसकी तरफ एकटक देखने लगी. जॉनभी उसकी तरफ देख रहा था. मानो दोनोकी आंखे एक दुसरेमें खो गई थी. जॉनका हाथ जो अबतक उसकी पिठ सहला रहा था और उसके लंबे घने बालोंसे खेल रहा था, धीरे धीरे उसके मुलायम जिस्मसे खेलने लगा. वहभी मानो उसे चूमते हूए सारा प्रेम उसपर बरसा रही थी. जॉनने उसे अपने सिनेपरसे अपने मजबूत बाहोंसे उपर खिंच लिया. वह उसके शर्टकी बटन्स खोलने लगी. जॉनभी उसके कपडे निकालने लगा. थोडीही देरमें दोनोंभी विवस्त्र हो चूके थे. जॉन उसके संगे मरमरसे बदनकी तरफ आंखे फाडफाडकर देखने लगा. वह उसमें समानेके लिए अधीर धीरे धीरे उसपर झूकने लगा. इतनेमें बाजूमें रखे जॉनके मोबाईलकी घंटी बजी. दोनोभी किसी बुत की तरह एकदम स्तब्ध हूए. जॉनने अपना हांथ बढाकर अपना मोबाईल लिया. मोबाईलके डिस्प्लेकी तरफ देखा. फोन सॅमका था. उसने बटन दबाकर फोन बंद किया और बाजूमें रख दिया. फिर दोनो मूड बनानेकी कोशीश करने लगे. मोबाईल फिरसे बजा. चिढकर उसने बटन दबाकर फोन कानको लगाया.

" हां सॅम, इतने रात गए क्या काम निकाला ? " जॉन ने नाराजगीमेंही कहा.

" सर, तिसरा खून हो चूका है " उधरसे सॅमका स्वर गुंजा.

" क्या? " जॉन एकदम से उठ गया.

जॉन अपने कपडे ढूंढने लगा.

" फिलहाल हम उधर ही जा रहे है.. किसीने फोन कर पोलीस स्टेशनको यह खबर दी." सॅमका आवाज आया.

" क्या ऍड्रेस बताया?" जॉनने कपडे पहननेकी चेष्टा करते हूए पुछा.

अँजेनीभी अब उठकर कपडे पहनने लगी थी.

" साऊथ एव्हेन्यू, प्रिन्स अपार्टमेंटस् 1004 ... उटीना हॉपर" उधरसे आवाज आया.

" क्या? इसबारभी एक औरत! ठीक है ... यू प्रोसीड विथ द टीम. मै जल्द से जल्द आकर तुम्हे जॉईन होता हूं " जॉनने अपने कपडे पहनते हूए फोन बंद किया.

... to be contd..

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-22: डिटेक्टीव्ह (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

रातके घने अंधेरेमे बस्तीसे दूर एक निर्जन, निर्मनुष्य स्थलपर एक गाडी आकर रुकी. गाडीसे ओवरकोट पहना हूवा एक साया बाहर आया. कडाके के ठंडमे अपने गाडीके पास वह साया खडा हो गया. बेचैन होकर वह साया अपने गाडीके पास चहलकदमी करने लगा. बिच बिचमें अपने घडीमेंभी देखता था. जाहिर था की वह किसीकी राह देख रहा था. उतनेमें सामने अंधेरेमे दो जलते हूए दिए उसे अपने तरफ आते हूए दिखाई दिए. उसकी चहलकदमी रुक गई. एक गाडी नजदिक आ गई. उस गाडीके हेडलाईटकी रोशनी उस साये के चेहरेपर पडी. वह साया दुसरा कोई ना होकर जॉन था. वह गाडी उसके गाडीके पास आकर रुकी. जॉन उस गाडीके पास गया. उस गाडीसे एक काला कोट और काली हॅट पहने हूए एक लंबा चौडा एक आदमी उतरा. उतरतेही उसने जॉनसे हस्तांदोलन किया " हाय जॉन"

" हाय अलेक्स" जॉनने उसका हाथ अपने हाथमें लेकर कहा.

" बोलो ... इतने सुनसान जगह, इतने रात गए, तूमने मुझे क्यो बुलाया? ?" अलेक्सने पुछा.

" बातही वैसी है. तुझे पताही होगा की हमारे डिपार्टमेंटकाही एक हमारा साथी खुनीसे मिल गया है ऐसा हमें संदेह है. अब ऐसी नौबत आई है की मै मेरेही किसी साथीपर भरोसा नही कर सकता. इसलिए मैने तुम्हे यहां बुलाया है " जॉन ने कहा.

" अच्छा तो उस कल्प्रीटको ढूंढना है. " अलेक्सने कहा.

" मुझे पता है की इस कामके लिए तुम्हारे सिवा दूसरा कोई काबिल डिटेक्टीव हो नही सकता" जॉन उसको सराहते हूए कहने लगा.

" एकबार तूमने काम मुझे सौप दिया की वह मेरा हो गया. तूम उसकी चिंता मत करो. जल्द से जल्द मै उसका पता लगाउंगा " अलेक्स आत्मविश्वास से कह रहा था.

" इस खुनीतक पहूचनेका मुझे तो दुसरा कोई उपाय नही दिखता. देखते है इससे कोई फायदा होता है क्या? जॉनने कहा.

" मतलब इस पतले धागे से स्वर्ग तक पहूचना है हमें...!" अलेक्सने मजाकमें कहा.

" स्वर्ग कैसा ... नर्क बोलो" जॉनने उसकी दुरूस्ती की.

" हां नर्कही कहना पडेगा " अलेक्स ने कहा.

... to be contd..

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-21: जॉनके बॉसकी व्हीजीट.. ... (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

ऑफिसमें अबतक कोई नही आया था. जॉन सुबह सुबह अकेला आकर टेबलके सामने अपने कुर्सीपर बैठ गया. वह शायद थकावट महसुस कर रहा था. उसने एक फाईल निकाली और उसमेंके पन्ने पलटने लगा. उसका उस फाईलमें जराभी खयाल नही था. तो भी वह एकाग्र होनेका प्रयास करते हूए फाईलके पन्ने पलटने लगा. थोडी देरमें एक एक करते हूए ऑफिसका दुसरा स्टाफ आने लगा.

अब ऑफीसमें अच्छी खासी चहलपहल और खुसुर फुसुर सुननेमे आ रही थी. तभी जॉनके पास एक मेसेंजर आकर हल्के आवाजमें बोला.

" सर, बॉस आ गए है .."

" बॉस ?..."

" सर ... शहर पोलीस शाखाप्रमुख"

" क्या? इतनी सुबह सुबह ?" जॉन अपने कुर्सीपरसे उठते हूए बोला.

शहर पोलीस शाखाप्रमुख आया मतलब कुछ तो जरुर सिरीयस होगा....

सोचते हूए जॉन उन्हे रिसीव्ह करनेके लिए बाहर गया. शहर पोलीस शाखाप्रमुख जॉनको रस्तेमेंही मिले.

" गुड मॉर्निंग सर" जॉनने अभिवादन किया.

" जॉन आय निड टू टॉक टू यू. इट्स व्हेरी इम्पॉर्टंट" शहर पोलीस शाखाप्रमुख ना रुकते हूए सिरीयस मूडमें बोले.

जॉन वैसाही मुडकर उनके पिछे पिछे आने लगा. दोनो आकर जॉनके केबीनमें बैठ गए.

" क्या खुनी का कुछ अता पता लगा की नही ?"

बैठे बराबर शहर पोलीस शाखाप्रमुखने जॉनको सवाल किया.

" नही सर, अबतक और कुछभी खास जानकारी नही मिली. और वो तो वो उपरसे ...आपको पता है ही... अपनाही कोई आदमी खुनीको मिला हूवा है" जॉनने कहा.

" और कितने खून होनेकी राह देखनी पडेगी हमें?"

शहर पोलीस शाखाप्रमुखने तिरछे अंदाजमें सवाल पुछा.

" सर, मुझे लगता है की मै आपको अबतक किए इनव्हेस्टीगेशनके बारेंमे संक्षिप्तमें बताता हू... ताकी आपको हम कर रहे इनव्हेस्टीगेशनके बारेमें पता चले. "

जॉनने एक दीर्घ सांस ली और वह उसके बॉसको उन्होने इस केसपर अबतक किये काम के बारेंमे जानकारी देने लगा.


" जैसे मैने आपको पहले बताया था... पहले खुनके वक्त हमें एक 'झीरो' ऐसा लिखा टी शर्ट पहना हूवा आदमी लिफ्टमें चढते हूए मिला था.... वैसाही टी शर्ट पहना और एक आदमी मुझे जहा अँजेनीको अॅडमीट किया था उस हॉस्पिटलमें मिला था....दोनोभी हमारे शिकंजेसे जरासे अंतरसे छूट गए थे... इसलिए हमनें दोनोंके स्केचेस निकालकर पुरी मिडीयाकेद्वारा लोगोमें जारी किये.... उन दोनोंको हमने पकडा भी लेकिन आखिरमें ऐसा पता चला की उन दोनोंका इन खुनसे कोई वास्ता नही था. .... इन फॅक्ट वैसे 'झीरो' निकाले हूए टी शर्ट पहनना आजकल फॅशन बनती जा रही है.... लेकिन यह खुनीभी दिवारपर खुनसे झीरो निकालता है इसलिए हमने यह खुन और वे दो टीशर्टवाले ये दोनो घटनाए एकदुसरेसे जोडी थी... इसलिए शुरुसेही हमने खुनीको पकडनेके हिसाबसे पक्की की दिशा पूरी तरहसे गलत साबीत हूई .... उसमें वक्त सो गया, हमारी मेहनत भी गई.... और आखीरमें हाथमें कुछ भी नही आया.... लेकिन अब हम नए जोशके साथ तैयार हूए है...... और पुरी तरह अपनी जान की भी पर्वा ना करते हूए जी जान लगाकर हम इस काममे लग गए है......" जॉन ने पुरी जानकारी सक्षिप्तमें दी.

उसका इशारा हालहीमें उसपर हूए जानलेवा हमलेकी तरफ था.

" काममें लगे हो... फिर खुनी क्यो नही मिल रहा है.? तुम्हे लग रहा होगा की इतनी सुबह आकर तुम लोगोको तकलिफ देनेके बजाय मै चूपचाप अपने ऑफिसमे जाकर शांतीसे अपने कुर्सीपर बैठकर आराम क्यो नही करता? मेरे कुर्सीको कितने किल है इसका तुम्हे अंदाजा नही होगा. उपरसे हमेशा दबाव लगा रहता है. पुरे शहरमें दहशत फैली हूई है... रातको आठ बजनेसे पहले सब रास्ते सुनसान हो जाते है. हर आदमीको लगता है की अब अगला नंबर उनका ही है. इतने दिन लोग चूप थे. अब वे मेयर को जाकर सफाई मांग रहे है और वह मेयर मेरे सरपे चढकर मुझे सफाई मांग रहा है. और इतनाही काफी नही था की यह प्रेसवाले पुलिसके बारेमें उलटा सिधा छापकर अपनी बदनामी कर रहे है. सच कहो तो लोगोका पुलिसपरसे विश्वास उडनेकी नौबत आई है. अब बहुत हो चूका अब सरके उपरसे पानी जा रहा है. मसला अब मिनीस्ट्री तक पहूंच गया है. ऐसी स्थीतीमें मै कैसे शांत रह सकता हूं. तुम लोगोंको जादासे जादा मै 4 दिनकी मौहलत देता हूं. उधर कुछभी करो और चार दिनमें उस खुनीको मेरे सामने पेश करो... लाईव्ह ऑर डेड"

"सर हम रातदीन कडी मेहनत कर रहे है"

" मुझे मेहनत नही, रिझल्ट चाहिए" शहर पोलीस शाखाप्रमुख कुर्सीसे एकदमसे खडे होते हूए बोले.

जॉनभी उसके कुर्सीसे उठ गया. शहर पोलीस शाखाप्रमुख अब जाने लगे थे. जाते जाते वे दरवाजेमे रुके, पलटे और बोले,

"... और अगर तुम्हारेसे यह केस सॉल्व नही होता है तो इस्तीफा दो. मै दुसरा कुछ बंदोबस्त करुंगा"

शहर पोलीस शाखाप्रमुख टाकटाक जुतोंका आवाज करते हूए वहांसे चले गए. जॉन दरवाजेतक गया और उन्हे जाते हूए देखता रह गया.
..contd..

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-20: बॉसका मेसेज. ... (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

वह मेल और उसकी अटॅचमेंट्स पूरी तरह पढनेके बाद कमांड2 कॉम्प्यूटरसे उठ गया. उसके चेहरेपर एक संतोष झलक रहा था. वह सब जानकारी उसने उसके दिमागमें, दिलमें और इतनाही नही अपने पास रखे थंब ड्राईव्हमेभी संजोकर रखी थी. वह वहासे जानेके लिए मुडनेही वाला था इतनेमें काम्प्यूटरका बझर बजा. उसने देखा तो कमांड1को मेल आई थी. उसने जाकर कमांड1के खुले मेलबॉक्समें देखा तो मेल बॉसकीही थी. वह फिरसे कॉम्प्यूटरके सामने बैठ गया, मेल खोली. मेलके साथ एक अटॅचमेंट थी. उसने अटॅचमेंट खोली तो वह एक मॅडोनाकी सुंदर सेक्सी तस्वीर थी. बॉस मॅडोनाका जरा जादाही फॅन लगता है... .

उसने सोचा. अबतक कमांड2 कमांड1का देख देखकर तस्वीरमें छिपा हूवा मेसेज कैसा खोलनेका यह सिख गया था. उसने तस्वीरमें छिपा मेसेज खोला. उसमें आगेकी कार्यवाईके बारेंमे लिखा था. आगेका खून कब, किसका करनेका यह सब विस्तारसे लिखा था. आज 15 तारीख थी और आगेके खुनके लिए 17 तारीख मुकम्मल की थी. उस मेलमें 17 तारीख के रात 1 से 3 का वक्त एकदम अनुकल है ऐसा लिखा था. और 16 तारख का पूरा दिन और रात बहूत ही खतरनाक वक्त है ऐसा लिखा था. कमांड2 ने वह पूरा मेसेज एक जगह कॉपी करके रखा. क्योंकी वह मेसेज एकबार खोलनेके बाद खत्म हो जाता था. उसे बॉसने उस तरहसे प्रोग्रॅम किया था. कमांड2ने वह मेल बंद की. मेसेज अब खत्म हो चूका था. अचानक कमांड2 अपने कुर्सीसे उठकर खडा हो गया और दिमाग में कुछ तुफान उठे जैसा रुममें कॉम्प्यूटरके आसपास चहलकदमी करने लगा. उसके दिमागमें कुछ कश्मकश चल रही थी यह स्पष्ट रुपसे दिख रहा था. आखीर वह अपनी चहलकदमी रोककर कॉम्प्यूटरके सामने रखी कुर्सीपर जाकर बैठ गया. वह शायद कुछ निश्चयतक पहूंच गया था.

उसने बॉसका आया हूवा मेसेज बदलनेका निर्णय लिया था.... .

उसने वह मेसेज 'इडीट' करनेके लिए ओपन किया. फिर एकबार इधर उधर देखते हूए उसने अपना इरादा पक्का किया और फिर वह मेसेज 'इडीट' करने लगा. खुनके लिए जो उचीत वक्त दिया था वह 17 तारीख रात 1 से 3 ऐसा लिखा था उसने वह बदलकर 16 तारीख रात 1 से 3 ऐसा किया. उस मेसेजमें 16 तारख की पुरी रात और दिन अति खतरनाक है ऐसा जिक्र किया था. वह बदलकर उसने 17 तारीख ऐसा किया. मतलब खुनके लिए जो उचीत वक्त था वह खतरनाक है ऐसे और जो खतरनाक था वह उचीत है ऐसा उलट फेर उसने मेसेजमें किया था.

ऐसा उसने क्यो किया?

उसके दिमागमें क्या खिचडी पक रही थी यह बताना बहुत मुश्किल था.

शायद उसका उसके बॉसके भविष्यकथनपर भरोसा नही था. शायद उसे उसका बॉस जो भविष्य बताता है वह सच होता है की नही यह देखना था.

लेकिन अगर उसके बॉसने बताया हूवा सच हूवा तो ?..

ऐसी स्थीतीमें कमांड1 और उसके खुदके जानको खतरा था. फिर इसमेंसे कुछतो रस्ता निकालना पडेगा...

वह सोचने लगा.

आखीर उसने फैसला किया की इस बार वह कमांड1के साथ नही जाएगा. कुछ बहाना बनाकर वह कमांड1को अकेला जानेके लिए विवश करने वाला था.

... to be contd...

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-19: चाल फंसी? ... (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

कमांड2 कमांड1 क्या बताता है यह सुननेके लिए बेताब हो गया था. वह उसकी राह देखते हूए कॉम्पूटरके पास बेसब्रीसे चहलकदमी करने लगा.

कितनी देर हूई कमांड1 बेडरूमकी तरफ गया ... अभीतक बाहर कैसे नही आया... इतना टाईम?...

वह उधर के उधरही तो नही कही बाहर चला गया ?...

कमांड2को अब चिंता होने लगी थी. कमांड2 उसे देखनेके लिए उठ गया और कमांड1 जिधर गया था उधर जाने लगा. बेडरूमके सामने आकर देखा तो बेडरुमका दरवाजा अंदर की ऒर खिंचा हूवा था. उसने धीरेसे दरवाजा धकेलकर देखा तो सामने बेडपर कमांड1 घोडे बेचकर सो रहा था. कमांड2को अपने मुंह तक आया निवाला छिन लिया गया हो ऐसा लगा. बडी मुश्कीलसे वह सब बकनेके लिए तैयार हूवा था. होशमें आनेपर वह कुछभी बताने वाला नही था. वह उसके पास गया और उसे हिलाकर उठानेकी कोशीश करने लगा. उसने उसे जोर जोरसे हिलाकर देखा. लेकिन वह निंदमेंही नही तो नशेमे चूर हो गया था. कमांड2ने थोडी देर प्रयास कर फिर उसे जगानेका विचार छोड दिया. फिर उसने सोचा की...

यह तो सो गया ... मुझे दूसरा कुछ किया जा सकता है क्या यह देखना चाहिए...

कमांड1 जो जानकारी देनेवाला था जरुर वह उसने कहीतो छिपाकर रखी होगी...

वह अगर मैने ढूंढनेका प्रयास किया तो?...

अबतक इस घरमें हमेशा उसके साथ कमांड1 रहता था. अब उसे पुरी तरह एकांत मिला था.

उसका अगर मैने फायदा उठाया तो?...

उसने निश्चय किया की इस घरका चप्पा चप्पा छान मारना चाहिए.

जरुर मुझे कुछ मिलेगा...

उसने बेडरूमसे शुरवात की. वह आवाज ना करते हूए बेडरूममें इधर उधर ढूंढने लगा. बेडरूममे कुछ खास नही मिल रहा था. इसलिए अब वह घरका बचा हूवा हिस्सा ढूंढने लगा. उधरभी उसे कुछ कामका नही मिला.

अचानक उसके खयालमें आया की...

'अरे कमांड1ने तो कॉम्प्यूटर शुरुही रखा हूवा है...'

वह तेजीसे काम्प्यूटरके पास गया. देखा तो काम्प्यूटर शुरुही नही कमांड1का मेलबॉक्सभी खुला था. कमांड2के चेहरेपर एक विजयी मुस्कुराहट चमकने लगी. वह झटसे काम्प्यूटरके सामने कुर्सीपर बैठ गया. और बिना वक्त गवाये कमांड1की मेल्स चेक करने लगा. बहुत सारी मेल्स थी. वह एक एक खोलकर उसपरसे तेजीसे अपनी पैनी नजर घुमाने लगा. कुछ खास कोई नही मिल रहा था. अचानक एक मेल खोलनेके बाद उसके चेहरेपर फिरसे मुस्कुराहट आ गई. उस मेलमे ऐसी कुछ जानकारी थी की जो आज कमांड1 उसे आज शायद बताने वाला था. उसने वह मेलपर उपर उपरसे एक नजर दौडाई. फिर अपने जेबसे युएसबी ड्राईव्ह निकालकर कॉम्प्यूटरको लगाया और वह मेल अटॅचमेंटके साथ अपने युएसबी ड्राईव्हमे कॉपी की. कॉपी होनेके बाद युएसबी ड्राईव्ह निकालकर उसने अपने जेबमें रखा. जिधर कमांड1 सोया था उस बेडरुमकी तरफ एकबार देखकर उसने तसल्ली की और फिर बिनधास्त वह मेल पढने लगा. कभी उसकी आंखोमे आश्चर्य दिखता तो कभी चेहरेपर मुस्कुराहट.

क्रमश:...

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-18: कमांड2की चाल ... (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

कमांड2ने जाना की यही सही वक्त है...

... की कमांड1से बहुत सारे राज पता किये जा सकते है...

वह एक एक घुटसे उसे साथ देता हूवा उसको नशा चढने का इंतजार करने लगा. थोडीही देरमें कमांड1 टून्न हो गया. यही मौका देखकर कमांड2ने अपने सवालोंका तांता लगा दिया...

"कमांड1, मुझे एक बता ..."

कमांड2ने पुछनेसे पहले जानबुझकर रुककर कमांड1के चढे हूए नशेका अंदाजा लिया.

कमांड2को रुका हूवा देखकर कमांड1 नशेमें बोला, " बोल क्या बतानेका है .... एक क्यू... दो पुछ... तिन पुछ... तुझे जितना चाहिए उतना पुछ... '"

उसका यह नशेमे धुत हूवा हाल देखकर कमांड2को हंसी आ रही थी लेकिन उसने बडे प्रयासके साथ अपनी हंसी दबाई.

"' नही मतलब... वह वक्त तुम्हारे तकदीरसे अच्छा था और अगर तुम 45 मिनट इधर या 45 मिनट उधर होते तो तुम्हे कोईभी बचा नही सकता था ' - ऐसा बॉसने क्यों कहा? मुझे तो कुछभी समझमें नही आ रहा है.." कमांड2ने कमांड1 को पुछा.

कमांड1को अब अच्छी खासी चढ गई थी. .

" वह तुम्हे नही समझेगा ... वह एक लंबी स्टोरी है " कमांड1ने कहा.

कमांड2 सोचने लगा.

अब इससे कैसे उगलवाया जाए...

उसने काम्प्यूटरपर बैठकर बॉसने पहले एक बार भेजा हूवा मेसेज खोला.

" और यह देख पहले एक बार बॉसने भेजे मेसेजमेंभी 11 तारख के रातको 3 से 4 का वक्त तुम्हारे लिए अच्छा है और 4 से 7 का वक्त बहुत ही खतरनाक है ऐसा लिखा था. उसका जोतिष्यपर जरा जादाही विश्वास दिखता है. " कमांड2 कमांड1को और उकसाने का प्रयत्न करने लगा.

" जोतिष्यपर विश्वास नही ... पूरी निष्ठा है. अबतक उसने कहे समयमें कभीभी दगा नही हूवा है " कमांड1ने कहा.

" वह केवल एक इत्तिफाक हो सकता है..." कमांड2 उसे और छेडनेके उद्देशसे बोला.

" इत्तिफाक नही. बॉसके पास ऐसी एक चिज है की जिसकी मदतसे वह कौनसी बात किस वक्त लाभदायक हो सकती है यह पहलेसे जान सकता है. "

कमांड1के मुंहसे अब बहुत सारी अंदर की बाते बाहर आनेको जैसे बेकरार थी.

" मुझे नही विश्वास होता' कमांड2 ने असहमती दर्शाकर अपना आखरी हथीयार इस्तेमाल किया.

" तुम्हाराही क्या किसीकाभी विश्वास नही होगा ''

" इसी एक बातसे तुम कह रहे हो की औरभी कुछ प्रमाण है?" कमांड2ने बिचमें टोककर पुछा.

" यह एकही बात नही ..... औरभी बहुत सारी बाते है... बॉसके पासका पैसा देखो ... बॉसके पास इतना पैसा कहांसे आगया? यह पुरी संस्था चलाना कोई मजाक नही... और यह सब वह अपने अकेले के बलबुतेपर चलाता है " कमांड2ने कहा.

" कैसे क्या?"

" उसके पासके तंत्रके सहाय्यता से कौनसे वक्त कौनसा शेअर फायदेमे रहेगा यह उसे पहलेसेही पता रहता है... और ऐसा कहते है की अबतक वह कभीभी नुकसानमें नही रहा " कमांड1 अब अच्छा खासा खुलकर बोल रहा था.

" तंत्र? ऐसा कौनसा तंत्र है उसके पास?" कमांड2ने उत्सुकतावश पुछा.

" बताता हूं" कमांड1 अपना व्हिस्कीका ग्लास फिरसे भरते हूए बोला.

" और बॉसने यह तंत्र कहासे हासिल किया ?" कमांड2 बेसब्रीसे सवालपर सवाल पुछे जा रहा था.

कमांड2 कमांड1 क्या बताता है यह सुनने के लिए बेताब हो गया था.

" बोलता हूं बाबा , सब बताता हूं " बोलते हूए कमांड1 खडा हो गया.

अपने दाएं हाथकी छोटी उंगली बताते हूए कमांड1ने कहा,

" एक मिनट रुको मै जरा इधरसे आता हूं''

कमांड1 झमता हूवा बेडरूमकी तरफ जाने लगा.

... to be contd...

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-17: बॉसका फोन ... (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

कमांड1 काम्प्यूटरपर कुछतो कर रहा था. कमांड2 उसके बगलमें हाथमें व्हिस्कीका ग्लास लेकर शानसे बैठा था.

'" सालेको कुचलना चाहिए था '" कमांड2 अपना व्हिस्कीका ग्लास एकही घुंटमें खाली करते हूए बोला.

" अरे नही ... उसे जिंदा रखना बहुत जरुरी है '" कमांड1 काम्प्यूटरपर तेजीसे कमांडस् टाईप करते हूए बोला.

उतनेमें बगलमें रखे फोनकी घंटी बजी.

कमांड1 ने फोन उठाया.

काम्प्यूटर का काम जारी रखते हूए वह फोनपर बोला,

" हॅलो"

उधरसे कुछभी जबाब नही आया.

" हॅलो ... कौन बात कर रहा है ?"

कमांड1ने फोनके डिस्प्लेपर उधरके फोनका नंबर देखा. डिस्प्लेपर कोई नंबर नही था. कोई नंबर नही देखकर कमांड1 सोच मे पड गया.

उसने अपना काम्प्यूटरका काम छोडकर फिरसे फोनमें कहा-

" हॅलो..."

" मै बॉस बोल रहा हूं " कमांड1को बिचमेंही काटते हूए उधर से आवाज आया.

"ब.. ब... बबॉस ? ... यस बॉस " कमांड1के मुंह से मुश्कीलसे निकल गया.

कमांड1 झटसे कुर्सीसे उठकर खडा हूवा था. उसके हाथ कांपने लगे थे. उसके पुरे चेहरेपर पसीनेकी बुंदे झलक रही थी. एक छोटी पसीनेकी लकीर कानके पिछेसे बहते हूए निचे आ गई.

कमांड2 को आश्चर्य होने लगा था.

कमांड2ने कमांड1को इतना घबराये हूए पहले कभी नही देखा था.

कमांड1की यह स्थिती देखकर कमांड2नेभी अपना व्हिस्कीका ग्लास बाजूमें रख दिया और वह भी कुर्सीसे उठ खडा हूवा.

बॉसने इसके पहले कभीभी फोन लगाया ऐसा उसने कभी सुना नही था.

बॉस उसके सब आदेश इंटरनेटके द्वाराही देता था.

फिर अचानक फोन करनेकी ऐसी कौनसी जरुरत आन पडी?

" तुम्हे जॉनको धडकानेकी बद्तमीजी करनेको किसने कहा था ?" उधरसे कडा और गंभीर आवाज आया.

आवाज किसी इलेक्ट्रॉनिक उपकरणसे आये जैसा लग रहा था.

"बबबॉस ... हमने उसे जानसे मारने के उद्देशसे धडकाया नही था. '" कमांड1 अपनी सफाई देनेकी कोशीश कर रहा था.

" चूप. मूरख .... तुम्हे पता है ... खुदकी मनमानी करनेवालोंको इस संस्था कोई स्थान नही " उधरसे बॉसका झल्लाया हूवा स्वर आया.

" स सॉरी बॉस... गलती हूई .... फिरसे नही होगी ऐसी गलती... " कमांड1 फिरसे क्षमायाचना करने लगा.

" तुम्हे पता है?... तुम्हारी तकदीर अच्छी थी की वह क्षण तुम्हारे लिए अच्छा था ...इसलिए तुम लोग बच गए... तुम लोग अगर 45 मिनट इधर या 45 मिनट उधर होते तो तुम्हे उस वक्त कोईभी बचा नही सकता था. '" बॉसका कडा स्वर कमांड1के कानमें घुमा.

अब कमांड2 कमाड1के पास जाकर फोनके स्पीकरके पास अपना सर घुसाकर बॉस क्या बोल रहा है यह सुननेका प्रयास करने लगा था. .

" आय अॅम रिअली सॉरी बॉस " कमांड1 फिरसे माफी मांगने लगा.

" यह तुम्हारी पहली गलती... और यह गलती तुम्हारी आखरी गलती रहनी चाहिए ... समझे? '" उधरसे बॉसने ताकीद दी.

"हां सर; यस...."

कमांड1 अपना बोलना खतम करनेके पहलेही उधरसे बॉसने धडामसे फोन रख दिया.

कमांड1ने अपने चेहरेका पसीना पोछते हूए फोन क्रेडलपर रख दिया. वह अपने चेहरेके डर के भाव छिपानेकी कोशीश करने लगा.

" बॉसको अच्छा नही लगा ऐसा लग रहा है...'" कमांड2ने कहा.

" हमने अपनी मनमानी नही करनी चाहिए थी " कमांड1ने कहा.

" जो हूवा सो हूवा ... फिरसे ध्यान रखेंगे..." कमांड2ने उसे दिलासा देने की कोशीश करते हूए कहा.

" यह बॉसका पहली बार फोन आया... उसका फोन आया तभी मुझे संदेह हूवा था की कुछ सिरीयस हूवा है... " कमांड1 ने अपना व्हिस्कीका ग्लास भरते हूए कहा.

कमांड2नेभी अपने बगलमें रखा व्हिस्कीका ग्लास उठाया और वह कमांड1के सामने बैठ गया. कमांड1ने गटागट व्हिस्कीके घुंटके साथ अपना अपमान पिनेकी कोशीश की.

... to be contd..

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-16: मधूर मिलन ... (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

अँजेनी जॉनको सहारा देते हूए उसके क्वार्टरकी तरफ ले जाने लगी.

" अच्छा, तो ... उन्होने तुमपर हमला किया था... तूमने ऐसा अकेला घुमना अब खतरेसे खाली नही है.... तूमने हमेशा अपने साथ प्रोटेक्शन लेना चाहिए... "" अँजेनी उसका सब अबतक का कहा सुनकर एक निष्कर्षपर पहूच गई.

" नही ... हमला नही किया उन्होने.... अगर वे चाहते तो आज मुझे जानसेभी मार सकते थे... लेकिन उन्होने ऐसा नही किया.... '" वह चलते हूए उसका सहारा लेते हूए बोला.

"तुमपर गोलीयाऑं बरसाईना उन्होने? " अँजेनीने फिरसे पुछा.

" हां ... लेकिन सब मेरे इर्द गिर्द ... एकभी गोली मेरे नजदिकसेभी नही गई... वे उनकी गाडीसे उतरकरभी मुझपर गोलीयॉं बरसा सकते थे... " जॉनने अपना तर्क प्रस्तूत किया.

" अच्छा जाने दो... तुम्हे कोई सिरीयस चोट तो नही आई ना ... यह सबसे महत्वपुर्ण'' वह उसे दिलासा देते हूए बोली.

"उन्होने सिर्फ मुझे उकसानेका प्रयत्न किया .. ऐसा लग रहा है की वे इस सिरीयल किलींगका जादा से जादा प्रचार करना चाहते है'' जॉनने अपना अंदाजा बयान किया.

"लेकिन उससे क्या होगा?" अँजेनीने आश्चर्यसे पुछा.

"वही तो एक पहेली है जो मुझसे सुलझ नही रही है... " जॉन चाबीसे अपना फ्लॅट खोलनेका प्रयत्न करते हूए बोला.

अँजेनीने उसके हाथसे चाबी ली और वह खुद फ्लॅट का ताला खोलने लगी.


जॉन बेडपर अपना शर्ट निकालकर पडा हूवा था. उपरसे कुछ लग नही रहा था फिरभी उसके शरीरपर जगह जगह लगने के लाल निशान थे. अँजेनीने उसे जहा जहा लगा था वहा मलम लगाकर दिया और सेकनेके लिए सेकनेकी रबर की थैली गरम पाणीसे भरकर दी.

'' अच्छा अब मै चलती हू... तुम आराम करो... बहुत देर हो गई है'' अँजेनीने उसके कंधेपर थपथपाकर कहा.

जैसेही वह जानेके लिए मुडी जॉनने उसके कंधेपर रखा हूवा उसका हाथ पकड लिया. उसने मुडकर उसकी तरफ देखा. उसका चेहरा लाजके मारे लाल लाल हूवा था. जॉन उसकी ऑंखोमें आखे डालकर देखने लगा. उसकी ऑंखेभी उसके ऑंखोसे हटनेके लिए तैयार नही थी. दोनोंके दिलकी धडकने तेज होने लगी. जॉनने उसे नजदिक खिंच लिया. अब दोनोभी इतने नजदिक आये थे की उनको एकदुसरेंकी गरम सांसे और दिलकी बढी हूई धडकनें महसुस होने लगी थी. जॉनने धीरेसे उसके कांपते होठोंपर अपने गरम होंठ रख दिए और उसे कसकर अपनी बाहोंमे भर लिया. जॉनको याद आया की उसे कृत्रिम सासें देते वक्त उसने ऐसेही उसके होठोंपर अपने होंठ रखे थे. लेकिन उस वक्त और अब कितना फर्क था. क्रिया वही थी लेकिन भावनाओंने उसे कितना अलग अर्थ दिया था. आवेगमें वे एकदुसरेंके चेहरेपर, होठोंपर, गर्दनपर चुमने लगे. जॉन हलकेसे उसके बडी बडी सासोंकी वजहसे उपर निचे होते सिनेके उभोरोंको छुने लगा.

"अँजेनी... आय लव्ह यू सो मच" अनायास उसके मुंहसे निकल गया.

"आय टू" बोलते हूए वह किसी लता की तरह उसे कसकर लिपट गई.

" आं..ऊं" जॉन जोरसे चिल्लाया.

"क्या हूवा ?" झटसे उससे हटकर उसने पुछा.

" कुछ नही... पिठपर जहा लगा है वहा थोडा दब गया " वह बोला.

" आय अॅम सॉरी" वह शरमाकर बोली.

उसने हंसते हुए उसे फिरसे अपने बाहोंमे भर लिया. वह भी हंसने लगी. और फिर दोनो कब अपने प्रेममिश्रीत प्रणयमें लीन हुए उन्हे पताही नही चला.

... to be contd..

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-15: क्या हूवा? ... (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

इधर अँजेनी जॉनकी राह देख देखकर थक गई थी.

क्या हूवा होगा ? ...

जॉन कहा गया होगा?...

इतनी देरसे वह अभीतक वापस क्यों नही आया ?...

उसे चिंता होने लगी थी.

अच्छा फोन करने जाओ तो ...

तो वह अपना मोबाईल यही छोडके चला गया था .

उसे कुछ सुझाई नही दे रहा था. कभी वह अंदर जाकर उसकी राह देखती तो बाहर कुछ आवाज होनेपर फिरसे बाहर आकर देखती थी. उसे उसकी इतनी चिंता क्यो हो?

उसे खुदकाही आश्चर्य लग रहा था. इतनेमें फिरसे बाहर किसी गाडी आनेकी आहट उसे हूई. वह उठकर फिरसे बाहर आ गई. एक गाडी आकर हॉटेलके बाहर आकर रुकी थी. लेकिन वह जॉनकी गाडी नही थी. वह एक प्रायव्हेट टॅक्सी थी. वह अंदर जानेके लिए पलटी तो पिछेसे उसे आवाज आया -

'"अँजेनी''

उसने पलटकर देखा तो टॅक्सीसे जॉन उतरा था. उसके सारे बाल उलझे उलझे और शर्ट एक जगह फटा हूवा और शर्टपर काले काले मैल के धब्बे पडे हूए थे.

क्या हूवा होगा ? ...

उसे चिंता होकर वह जॉनके तरफ जाने लगी. जॉनभी लंगडता हूवा उसकी तरफ आने लगा.

"" क्या हूवा?"" वह तत्परतासे उसके पास जाते हूए वह बोली.

कुछ ना बोलते हूए जॉन लंगडते हूए उसकी तरफ चलने लगा. उसने झटसे जाकर उसे सहारा दिया.

"" हमें हॉस्पीटलमें जाना चाहिए '" अँजेनी उसे कहा कहा लगा यह देखते हूए बोली.

'' नही .... उतना कुछ खास लगा नही ... सिर्फ कुछ कुछ जगह सुजन आई हूई है..'' वह किसी तरह बोला.

'" तो भी चेकअप करनेमें क्या हर्ज है..?" वह जानेवाली टॅक्सीको रुकनेके लिए हाथ दिखाते हूए बोली.

उसने उसे सहारा देकर टॅक्सीमें बिठाया और वहभी उसके पास उसे सटकर बैठ गई.

'' थ्री कौंटीज हॉस्पिटल'" उसने टॅक्सीवालेको आदेश दिया.

'"नही ...सचमुछ वैसी कोई जरुरत नही'' जॉनने कहा.

'' तुम्हारी गाडी किधर है?"" अँजेनीने पुछा.

'" है उधर ... पिछे... रस्तेके किनारे.... बडा अॅक्सीडेंट होते होते बचा '" वह बताने लगा.

'' ड्रायव्हर ... गाडी पोलीस क्वार्टर्सको लेना '" जॉनने बिचमेंही ड्रायव्हरको आदेश दिया.

ड्रायव्हरने गाडी स्लो कर एकबार अँजेनी और फिर जॉनकी तरफ देखा. अँजेनीने 'ठीक है ... वह जहा कहता है उधरही लो' ऐसा ड्रायव्हरको इशारेसेही कहा.
.... to be contd...

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-14: पिछा ... (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

जॉनकी गाडी तेजीसे दौडने लगी थी. थोडीही देरमें जिस गाडीके पिछेके कांच पर खुनसे शुन्य निकाली हूई तस्वीर लगी थी वह गाडी उसे दिखाई देने लगी. वह गाडी दिखतेही जॉनके शरीर मे और जोश आगया और उसके गाडीकी गती उसने और बढाई. थोडीही देरमें वह उस गाडीके नजदीक पहूंच गया. लेकिन यह क्या? उसकी गाडी नजदीक पहूचतेही सामनेके गाडीने अपनी रफ्तार और तेज कर ली और वह गाडी जॉनके गाडीसे और दूर जाने लगी. जॉननेभी अपने गाडीकी रफ्तार और बढाई. दोनो गाडीकी मानो रेस लगी थी. रस्तेपर दुसरी ऐसी कोई खास ट्रॅफिक नही थी. यही दो गाडीयॉं एक के पिछे एक ऐसे दौड रही थी. जानको फिरसे लगा की वह अब सामनेके गाडीके नजदीक पहूंच सकता है. जॉनने उसके गाडीकी गती और तेज कर दी. थोडीही देरमें जॉनकी गाडी सामनेकी गाडीके एकदम नजदीक जाकर पहूंची. जॉनने जेबसे रिव्हॉल्वर निकाला और वह सामनेके गाडीके दिशामें फायर करनेही वाला था की अचानक सामने के ग़ाडीके कर्रऽऽ कर्रऽऽ ऐसा आवाज करते हूए ब्रेक लगे. जॉनकी गाडी उस गाडीके एकदम पिछे अनियंत्रित और बेकाबू रफ्तारसे दौड रही थी. सामनेके गाडीके ब्रेक लगे बराबर जॉनको अपने गाडीके ब्रेक दबानेही पडे. उसके गाडीके टायर चिखने लगे और सामनेके गाडीके साथ होनेवाली टक्कर बचानेके चक्करमें उसकी गाडी रोडसे निचे उतरकर एक जगह रुक गई. बडा भयानक ऍक्सीडेंट होते होते बचा था. ! ऍक्सीडेंट बचा यह देखकर जॉनके जानमे जान आयी. लेकिन यह क्या. वह दुसरी गाडी फिरसे शुरु हूई और जोरसे जॉनके गाडीके तरफ दौडने लगी. जॉन घाबराकर गाडीसे बाहर निकलने की कोशीश करने लगा था लेकिन तबतक वह गाडी उसके गाडीको डॅश कर निकलभी गई थी. जॉन इस हादसे संभलता नहीकी उसने देखा की उस गाडीसे उसकी दिशामें रिव्हॉल्वरकी गोलीयां आने लगी है. थोडी देरमें वह गाडी तेज रफ्तारसे निकल गई और फिर नजरोंसे ओझल हूई. जॉन उसकी गाडी शुरु करनेका प्रयास करने लगा. लेकिन उसकी गाडी शुरु होनेका नाम नही ले रही थी. आखीरमें लंगडते हूए वह गाडीसे बाहर आया और सामनेकी गाडी उसकी पहूंचसे निकलती देखकर चिढकर गुस्सेसे उसने अपनी कसी हूई मुट्ठी अपने गाडीपर जोरसे दे मारी.
... to be contd....

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-13: शुन्यकी तस्वीर... ... (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

रातका घना अंधेरा और उपरसे चूभती हूई कडाकेकी ठंड. ऐसे वातावरण मे बहुत सारे प्रेमी युगल रस्तेसे दिख रहे थे. रस्तेके उस तरफ एक आलीशान हॉटेल था. यह जगह शहरके दुसरे भागसे उंचा होनेके कारण यहांसे शहरकी रोशनाई किसी बिखरे हूए चांदनीकी तरह दिख रही थी. और तालाबके किनारे लगे हूए लाईट्स किसी राणीके गलेमें पहने हूए हिरेके हारकी तरह सुंदर लग रहे थे. और तालाबमें पडे उन लाईट्स की परछाईयां उस नेकलेसको और ही सुंदर बना रही थी. इस माहौलमे एक विषम जोडा था - कमांड1 और कमांड2 का. उधर कोनेमें सबसे हटकर उनकी कुछ गहन चर्चा चल रही थी. तभी हॉटेलके सामने एक बडीसी आलीशान गाडी आकर रुकी. गाडीसे जॉन और अँजेनी उतरे. उनको देखतेही कमांड1 और कमांड2 की चर्चा बंद हूई. वे दोनो चोरी छिपे जॉन और अँजेनीके तरफ देखने लगे.


अँजेनी और जॉन हॉटेलके खुले हॉलमें एक कोनेमे बैठे थे.

'' क्या लेंगी?... ड्रिंक्स?'' जॉनने पुछा.

'' नही... तुम्हे लेना है तो तुम लो... '' अँजेनीने कहा.

'' नही फिर मै भी नही लुंगा. ... अच्छा खानेके लिए क्या प्रीफर करेंगी "" जॉन ने पुछा.

'' कुछभी... तुम जो ठिक समझो." अँजेनीने कहा.

" चायनीज?" जॉन ने पुछा.

अँजेनीने हां मे गर्दन हिलाई.

"" पहले सूप मंगाएंगे ... कार्न सूप ?" जॉनने फिरसे उसे पुछा.

उसने फिरसे गर्दन हिलाकर हां कहा. जॉनने उसके हाथमेंका मोबाईल सामने टेबलपर रख दिया और उसकी नजरें आर्डर देनेके लिए वेटरको ढुंढने लगी.

"" ऐसा लगता है की... तुम यहां हमेशा आते हो... '' अँजेनी कुछतो बोलना है ऐसे बोली.

'' हां वैसे हमेशाही आता हूं... लेकिन एक सुंदरीके साथ पहली बार आया हूं '' वह शरारती लहजेमें बोला.

अँजेनी मंद मंद मुस्कुराई. इतनेमें वेटर वहां आया. जॉनने सूपकी आर्डर दी.

"" अब कैसी है तुम्हारी तबीयत ... इतनेमें डॉक्टरके पास गई थी क्या?" जॉनने उसको पुछा.

'" वैसे तो ठिक है.... कल ही गई थी डॉक्टरके यहां ...लेकिन वेभी क्या उपचार करेंगे... मुझे तो कुछ भी समझमें नही आ रहा है.,.. की इस हादसेसे कैसे बाहर निकला जाए"" अँजेनीने कहां.

उसके चेहरेपर फिरसे दुखकी छटा छा गई.

'' वक्त ... वक्त सब जख्म भर देता है .... लेकिने बोलनेवाले कितनाभी बोले... जिसपर बितता है वही दुखकी मार समझता है... '' जॉनने उसके हाथपर अपना तसल्लीभरा हाथ रख दिया.

"वक्त .... हा वक्तही.... लेकिन कितना '' अँजेनी आह भरकर बोली.

'' अच्छा तुमने कामपर जाना अभी शुरु किया है की नही?" जॉनने पुछा.

'' नही ... मेरा अब किसीभी बातमें मन नही लगता... फिर वहां जाकर क्या करु?" वह बोली.

'' मेरी मानो... कलसे कामपर जाना शुरु करदो.... काममे व्यस्त रहना तुम्हारे लिए बहुत जरुरी है... काममें व्यस्त रहनेसे धीरे धीरे आदमी दुख भूल जाता है... '" जॉनने सलाह दी.

'' देखती हू... तुम कहते हो वैसाभी करके देखती हूं'" उसने कहा.

जॉनने उसके हाथपर रखा हूवा हात हलकेही अपने हाथमें लेते हूए वह बोली,

'' इस बुरे वक्तमें सचमुछ तुमने मुझे बहुत सहारा दिया... '' वह उसका हाथ और कसकर पकडते हूए बोली.

इतनेमें जॉनको खिडकीके बाहर रस्तेपर एक गाडी जाते हूए दिखी. उस गाडीके पिछेके कांचपर खुनसे शुन्य निकाली हूई तस्वीर थी. जॉन एकदमसे खडा हूवा.

" तूम यही रुको... मै अभी आता हूं... '' ऐसा बोलते हूए जॉन वहांसे दौडते हूएही हॉटेलके बाहर निकला. अँजेनी घबराकर क्या हूवा यह देखने लगी. वह खिडकीसे बाहर देखनेतक बाहर की गाडी उसके आंखोसे ओझल हूई थी. वह भी उठकर गडबडमें जॉनके पिछे पिछे जाने लगी. लेकिन तबतक जॉनने अपनी गाडी पार्किंगसे निकालकर रस्तेपर एक दिशामें जोरसे दौडाई थी. अँजेनी हॉटेलके सिढीयोंपर असमंजससी इधर उधर देखती हूई खडी रही.

क्रमश:...

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-12B: फर्स्ट डेट ... (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

इधर इतने जल्दी तैयारी करे तो कैसे करे इस दुविधामें अँजेनी पड गई थी. उसे भी बहुत दिनोसे अकेला रह रहके घुटनसी महसुस हो रही थी. उसे अब थोडे 'चेंज'की जरुरत महसुस होने लगी थी. उसने जल्दी जल्दी कपडे बदले और ड्रेसींग टेबलके सामने आईनेमे देखते हूए अपने बाल वाल संवारने लगी. उसे याद आ रहा थी की आज लगभग एक महना होनेको आया था की वह बाहर कही नही गई थी. सानीके खुनके बाद मानो उसका जीवन कैसे सुना सुना हो गया था. सानीके साथ वह हमेशा सज संवरके कभी शॉपींगके लिये, कभी घुमने के लिए तो कभी डिनरके लिए बाहर जाती थी. सानीका खयाल आते ही उसका सजा संवारा चेहरा मुरझा सा गया. इतनेमें डोअर बेल बज गई. बेल बजेबराबर उसे महसुस हूवा की न जाने क्यों उसके दिलकी धडकन तेज होने लगी है. वह उठकर दरवाजेके तरफ चली गई, दरवाजा खोला, सामने जॉन खडा था.

रेडी?" जॉनने अंदर आनेसे पहलेही पुछा.

" ऑलमोस्ट... ' उसे अंदर लेते हूए वह बोली.

दरवाजा अंदरसे लगाकर उसने जॉनको हॉलमें बैठनेके लिए कहा.

" जस्ट वेट अ मिनिट.." कहते हूये वह बचीकुची तैयारी करने के लिए अंदर चली गई. जॉन हॉलमें बैठकर हॉलका सामान, दिवारपर टंगी हूई पेंटीग्ज गौर से देखने लगा. देखते देखते उठकर वह खिडकीके पास चला गया. खिडकीके बाहर फिरसे वह गोल तालाब उसे दिखाई दिया. उसने पहले जब वह इन्व्हेस्टीगेशनके लिये आया था तब उसे देखा था. उस वक्त उसे इस तालाबके बारेमें बहुत सारे सवाल पुछने थे वे वैसे ही रह गए थे.

" यह तालाब नॅचरल है की कृत्रिम ?" उसने उत्सुकतावश बडे स्वर में अंदर अँजेनीसे पुछा.

" हां आती हूं... बस एकही मिनट... " अंदरसे अँजेनीभी जोरसे बोली.

उसके सवालके इस अनपेक्षित उत्तरसे वह सिर्फ मन ही मन मुस्कुराया.

थोडी देरमें उसके सामने सज धजकर जाने के लिए तैयार अँजेनी खडी थी. उसने पहले कभी उसे इस रुपमें नही देखा था. उसकी सुंदरता और ही खुलकर निखर रही थी.

" सुंदर दिख रही हो" जॉनने उसे कॉम्प्लीमेंट किया.

" क्या कह रहे थे... मै अंदर थी तब पुकारा था क्या ? ... " अँजेनी शरमाकर बात टालते हूए बोली.

"नही मै पुछ रहा था की यह पिछेका तालाब नॅचरल है या कृत्रिम" जॉन खिडकीके बाहर इशारा करते हूए खिडकीके पास जाकर बोला.

" यह ना... नॅचरलही है ... हजारो साल पहले एक बडी उल्का आसमानसे गिरी थी और उसके वजहसे यह तालाब बना... ऐसा कहते है... " अँजेनी खिडकीके पास जाकर बोली.

" तो भी मै बोल रहा था की यह तालाब एकदम परफेक्ट गोल कैसा ?" जॉनने कहा.

" अरे हां ... तो फिर निकलनेगे?" जॉन अपने सोचसे बाहर आते हूए बोला.

अँजेनीने आखोही आखोमें हां कहां और दोनो बाहर निकल पडे.

... to be contd..

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-12A: फर्स्ट डेट ... (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

जॉनका दिमाग सोचसोचकर घुमने लगा था. दो खून हो चूके थे और खुनी का कोई ना अता पता था ना सुराग. कही थोडा पुछताछके लिए जावो तो प्रेसवाले पता नही कहासे आकर घेर लेते थे. जॉन दिखा नही के वे सब उसपर टूट पडते थे. अच्छा .. कोई केसमे कुछ नई डेव्हलपमेंट हो तो ही बतायेंगे ना. कुछ डेव्हलपमेंट ना होते हूए प्रेसवालोंको फेस करना बडा मुश्कील हो गया था. बाहर प्रेसवाले और अंदर उनकाही कोई आदमी अंदर की सारी बाते बाहर डीस्क्लोज कर रहा था. अंदर किसपे विश्वास किया जाए और किसपे नही कुछ समझमें नही आ रहा था. अब अंदर कोई पुलिसवालाही गद्दारी कर रहा है ऐसी खबर बाहर तक पहूच गई थी.


'अगला कौन?'

'पुलिसवालेही बेईमान तो खुनीको कौन पकडेगा?'

'और कितने लोगोंकी जान देनी पडेगी?'

ऐसे अलग अलग हेडींग की अलग अलग खबरें छापकर प्रेसवालोने सारे शहरमे दहशत फैलाके रख दी थी.

अब लोग पुलिसवालोंके कर्तव्यके बारेमेंही सवाल खडा करने लगे थे. और यह इतनाही टेंशन क्या कम था की उपर के वरीष्ठोने दबाव बनाना शुरु किया था. सोच सोचकर जॉन का दिमाग थक चूका था. जॉनने खिडकीसे बाहर झांककर देखा. शाम हो चूकी थी. अंधेरा होनेमे बस थोडाही वक्त बाकी था. अचानक जॉनको क्या सुझा क्या मालूम उसने उसके सामने रखा फोन उठाया, एक नंबर डायल किया -

"" क्या कर रही हो? ... '' वह फोनमें बोला.

'' कौन? ... जॉन! '' उधरसे अँजेनीका उत्साहसे भरा स्वर गुंजा.

'' कैसी हो?...'' उसने पुछा.

अपना आवाज अँजेनीने पहचाना उसकी खुशी जॉनके चेहरेपर झलक रही थी.

'' ठिक हू...'" उसका गहरा दुखी स्वर गुंजा.

उसे यह सवाल पुछना नही चाहिए था ऐसा जॉनको लगा. उसे अब क्या बोलना चाहिए की वह फिरसे आनंदीत हो. जॉन सोचने लगा.

" ... क्या कुछ जानकारी मिली ... खुनीके बारेमें ?" उधरसे अँजेनीने पुछा.

" इसी सवालसे पिछा छुडवानेके लिये तुम्हे फोन किया और तुम भी यही सवाल पुछो. .." जॉनने कहा.

" नही ....बहुत दिनोंके बाद तुम्हारा अचानक फोन आया ... इसलिए मैने सोचा कुछ केसमे नई डेव्हलपमेंट होगी..."" अँजेनी बोली..

"नही ... ऐसी कुछ खास डेव्हलपमेंट नही है... .. अच्छा ... मैने फोन इसलिए किया की... आज शामको तुम्हारा क्या प्रोग्रॅम है ? " जॉन असली मुद्देपर आते हूए बोला.

" कुछ खास नही" अँजेनी उधरसे बोली.

" फिर ऐसा करो ... तैयार हो जावो... मै आधे घंटेमें तुम्हे लेने आता हूं.... हम डीनरको जायेंगे... "" जॉन अपना हक जताते हूए बोला.

" लेकिन..."

" लेकिन वेकिन कुछ नही ... कुछ भी बहाना नही चलेगा... मै आधे घंटेमे पहूचता हू...'" जॉनने कहा.

और वह कुछ बोले इससे पहलेही फोन रखकर वह निकल भी गया.

... to be contd...

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-11: गद्दार ... (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

रात काफी हो चूकी थी. और उसमें जिस्मको चूभती हूई ठंड. पुलसे गाडीयोंके आने जानेकी चहलपहल अभीभी जारी थी. एक गाडी पुलसे किनारे आकर रुकी. उसमेंसे एक साया बाहर आया, उसने ठंडसे बचनेके लिये अच्छा खासा जाडा उलन कोट पहना हूवा था. ठंडके वजहसे या फिर कोई पहचान नही पाए इसलिए उसने सरपरभी उलनका कुछ पहना हूवा था. वह साया धीरे धीरे पुलके निचे उतरने लगा. पुलके निचे एक जगह रुककर उस सायेने फिरसे इधर उधर अपनी नजर दौडाई. फिर निचे झूककर जमीनसे कुछ पत्थर हटाकर कुछ ढुंढा. एक बडासा पत्थर हटाकर वह साया स्तब्ध हुवा. शायद पत्थरके निचे उसे कुछ दिखाई दिया था. उस सायेने वह क्या है यह टटोलकर देखा. उसने वह चिज उठाकर अपने कोट के जेबमें रखी और उस चिजकी जगह अपने कोटके जेबसे कपडेमें लिपटा हूवा कुछ निकालकर रख दिया. फिरसे हटाया हूवा वह बडासा पत्थर अपने जगहपर रख दिया. फिरसे वह साया इधर उधर देखते हूये अपने गाडीके पास जाने लगा. वह साया अपने गाडीके पास जाकर पहूचता नही की सामनेसे एक तेज दौडती हूई गाडी वहां से गुजर गई और उस गाडी के हेडलाईटकी रोशनी उस सायेके चेहरे पर पडी. वह साया दुसरा तिसरा कोई ना होकर जॉनका नजदिकी साथीदार डॅन था.


आज सुबह आयेबराबर आफिसके लोगोंको हॉलमें इकठ्ठा होनेका आदेश मिला. ऐसा बहूतही कम बार होता था. ऐसा क्या हूवा होगा की जॉनने अपने सारे साथीदारोंको हॉलमें इकठ्ठा होनेका आदेश दिया होगा? सॅम सोचमें पड गया. शायद हालहीमें शुरु सिरीयल किलरके सिलसिलेमेंही कुछ जरुरी होगा. सॅम जॉनका एकदम करीबी माना जाता था. ऐसा कुछ रहा तो उसे उसकी पहलेसेही जानकारी रहती थी. लेकिन आज वैसा नही हूवा था. बाकी लोगोंकी तरह आज सॅमभी मिटींगके उद्देशके बारेमे अनजान था.


सॅम जब हॉलमे आया तब वह वहां अकेलाही था. धीरे धीरे सबलोग आपसमें खुसुर फुसुर करते हूए आने लगे. बहुतोंने सॅमको पुछाभी. सॅमभी मिटींगके बारेमे अनभिज्ञ होनेका सबको आश्चर्य हो रहा था. अभी जॉन हॉलमें नही आया था. सबसे आखरी डॅन चोरोंकी तरह हलके पांवसे हॉलमें आया और एक कोनेमें जाकर बैठ गया. उसका चेहरा चिंताग्रस्त लग रहा था. जॉनको अपने कारनामेके बारेमें पतातो नही चला. लेकिन पता चलनेका कोई चान्स नही था. वह खुदको तसल्ली देने लगा. मैने किसका काम किया यह मुझेही पता नही तो फिर जॉनको पता होनेका कोई सवालही पैदा नही होता. मुझे किसी अज्ञात आदमीका फोन आया... उसने मुझे एक काम सौपा और उसके बदलेमे ढेर सारे पैसे दिये. पैसे भी मुझे किसी आदमीसे नही दिए गये थे, वे एक जगह रखे गए थे. डॅन अब थोडा रिलॅक्स हुवा. उसके चेहरेपरसे चिंताके बादल हटने लगे थे. इतनेमें अपने लंबे लंबे तेज कदमोंसे जॉनने हॉलमें प्रवेश किया. सिधे पोडीयमपर जाकर उसने उसके हाथमेंकी फाईल टेबलपर रख दी. आम तौर पर उसकी फाईल उसके पिछे पिछे कोई पियून लाता था. लेकिन आज उसके पिछे कोई नही था. उसकी फाइल उसने खुदही लाई थी. .

'" आज एक बुरी और उतनी ही सनसनीखेज खबर देनेके लिए मैने आपको यहां बुलाया है'' जॉन आये बराबर बोला.

इधर डॅनके दिलकी धडकन बढने लगी. जॉनने अपनी पैनी नजर हॉलमें सब तरफ घुमाई. मानो वह सबके चेहरेके भाव जानने की कोशीश कर रहा था.

उसने उसके फाईलमेंसे दो तस्वीरे निकाली और सामने बैठे उसके एक साथीके हाथमें देकर पुरे हॉलमें घुमानेके लिए कहा. तस्वीरे एकसे दुसरेके पास जाने लगी. किसीके चेहरेपर असंमजससे भ्रमभरे भाव थे तो किसीके चेहरेपर आश्चर्यके भाव छाने लगे थे.

'"दोनोभी तस्वीरे ध्यान देकर देखो'' जॉनने हिदायत दी.

हॉलमें खुसुरफुसुर होने लगी थी.

'"... दोनो तस्वीरोंमे एक टी पॉय है ... एक फोटोमें टीपॉयके उपर पेपरवेट रखा हूवा है ... तो दुसरे फोटोमें वह वहांसे गायब है... हमें सबको वारदात की जगह कोईभी वस्तू ना हिलानेकी हिदायत रहती है......" जॉनने फिरसे एकबार अपनी पैनी नजर हॉलमें घुमाई.

'" फिर वह पेपरवेट गया कहा? .... पेपरवेट गायब होता है इसका मतलब क्या?... की उस पेपरवेटमें ऐसी कोई बात थी की जिसकी वजहसे वह खुनी पकडा जाने की संभावना थी.... जैसे उसके उंगलियोंके निशान... खुनका अंश ... या ऐसाही कुछ ...'' जॉन का आवाज अब कडा हूवा था.

इधर डॅन अपने भाव छिपानेका भरसक प्रयास करने लगा.

'" तो पेपरवेट गायब होता है इसका मतलब क्या ?...की अपनेमेसेही कोई... गद्दार है और वह खुनीसे मिला हूवा है... ." जॉनने कहा.

हॉलमें स्मशानवत सन्नाटा फैला. डॅनकी आखोमें गद्दारीके भाव तैरने लगे थे. लेकिन क्या वे जॉनने पकडे थे?

... to be contd..

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-10: माय गॉड ... (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

हयूयानाके शवके आसपास इनव्हेस्टीगेशन कर रहे टेक्नीकल लोगोंकी भीड हूई थी. उनको दिक्कत ना हो इसलिए जॉन और सॅम बेडरूमसे बाहर चले गए. बाहर हॉलमेंभी जॉनके कुछ और साथी थे. उनमेंसे डॅन बाकी कमरोंमे कुछ मिलता है क्या यह ढूंढ रहा था. इतनेमें डॅनका व्हायब्रेशन मोडमें रखा हूवा मोबाईल व्हायब्रेट हूवा डॅनने फोन निकालकर नंबर देखा. नंबर तो पहचानका नही लग रहा था. डॅनने मोबाईल बंद कर जेबमे रखा और फिर अपने काम मे व्यस्त हूवा.

थोडी देरमें डॅनके फोनपर एस. एम. एस. आया. एस. एम. एस. उसी फोन नंबरसे आया था. उसने मेसेज खोलकर देखा-

'डॅन फोन उठावो ... वह तुम्हारे लिए बहुत फायदेका सौदा रहेगा.'

डॅन सोचमें पड गया. ऐसा किसका एस. एम. एस. हो सकता है? फायदा यानी किस फायदेके बारेंमे वह बात कर रहा होगा? अपने दिमागपर जोर देकर डॅन वह नंबर किसका होगा यह याद करनेकी कोशीश करने लगा. शायद नंबर अपने डायरीमें होगा यह सोचकर उसने डायरी निकालनेके लिए जेबमें हाथ डालाही था की डॅनका मोबाईल फिरसे व्हायब्रेट होगया. वही नंबर था. डॅनने मोबाईलका बटण दबाकर मोबाईल कानको लगाया.

उधरसे आवाज आई-

'' मै जानता हू अब तुम कहा हो .. हयूयाना फिलीकींन्सके फ्लॅटमें ... जल्दीसे कोई सुनेगा नही , कोई देखेगा नही ऐसे जगहपर जावो... मुझे तुमसे बहुत महत्वपुर्ण बात करनी है ''


जॉन और अँजेनी हॉलमें बैठे थे.

'' इस दोनो खुनसे मै कुछ नतिजे तक पहूंचा हूं...'' जॉन अँजेनीको बताने लगा.

"'कौनसे?" अँजेनीने पुछा.

'' पहली बात... यह की यह खुनी .. इंटेलेक्च्यूअल्स इस कॅटेगिरीमे आना चाहिए'" जॉनने कहा.

'' मतलब?'' अँजेनीने पुछा

'' मतलब प्रोफेसर , वैज्ञानिक, मॅथेमॅटेशियन ... या ऐसाही कोई उसका प्रोफेशन होना चाहिए'" जॉनने अपना तर्क बताया.

'' कैसे क्या?"' अँजेनीने पुछा.

'' उसके शून्यसे रहे लगावसे ऐसा लगता है... लेकिन 0+6=6 और 0x6 =0 ऐसा लिखकर उसे क्या सुझाना होगा?'' जॉनने जैसे खुदसेही पुछा.

'' ऐसा हो सकता है की उसे सब मिलाकर 6 खुन करने होंगे'' अँजेनीने अपना कयास बताया.

"' हां हो सकता है'' जॉन सोचमें डूबा उसकी तरफ देखते हूए बोला.

जॉनने मौकाए वारदात पर निकाले कुछ फोटो अँजेनीके पास दिए.

'' देखो इस फोटोंसे कुछ खास तुम्हारे नजरमें आता है क्या?"" जॉनने कहा.

'' एक बात मेरे ध्यानमें आ रही है ...'' जॉनने कहा.

'' कौनसी?'' फोटोकी तरफ ध्यानसे देखते हूए अँजेनीने पुछा.

'' की दोनोभी खून अपार्टमेंटके दसवे मालेपरही हूए है ...'' जॉनने कहा.

अँजेनीने फोटो देखते हूए जॉनकी तरफ देखते हूए कहा, '" अरे हां... तुम बराबर कहते हो ... यह तो मेरे ध्यानमेंही नही आया था"''

अँजेनी फिरसे फोटो देखनेमें व्यस्त हूई. जॉन उसके चेहरेके हावभाव निहारने लगा. अचानक अँजेनीके चेहरेपर आश्चर्यके भाव आ गए.

'" जॉन यह देखो ...'' अँजेनी दो तस्वीरें जॉनके हाथमें पकडाते हूए बोली.

जॉनने वे दोनो तस्वीरे देखी और अनायास ही उसके मुंह से निकल गया,''

'" माय गॉड...''

जॉन उठकर खडा हो गया था.
... to be contd...

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-9B : पहली गलती ? ... (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

लिखना होनेके बाद कमांड1 वहा बगलमेंही रखे हूए फोनके पास गया. ओवरकोटके दाएँ जेबसे उसने एक उपकरण निकाला, फोन नंबर डायल किया और उस उपकरणसे वह फोनके माऊथपीसमें बोलने लगा, '' ... और एक शख्स ...हयूयाना फिलीकींन्स ...शून्यमे समा गया है ..."

उधरसे कुछ आवाज आनेसे पहलेही उसने फोन रख दिया. शायद उसने पुलिस स्टेशनको फोन लगाया था. फोन रखनेके बाद अचानक कमांड1का खयाल उसके हाथ की तरफ गया.

" माय गॉड!" उसके मुंह से आश्चर्ययुक्त डरसे निकल गया.

" क्या हूवा ?" कमांड2 कमांड1के हाथकी तरफ देखकर बोला.

क्या गडबड हूई यह अब कमांड2केभी खयालमें आया था. कमांड1के दाए हाथका रबरसे बना हूवा हॅन्डग्लोव्ह फट गया था. खुनके पहले जब वह हॉलमे किसी चिजसे टकराया था तब शायद वह कहीं अटकर फट गया होगा.

"" मेरे हाथके और उंगलियोंके निशान अब सब तरफ लगे होगे... हमें अब यहांसे जानेसे पहले सब निशान मिटाना जरुरी है...'' कमांड1 अपने जेबसे रुमाल निकालते हूए बोला.

'' जादा नही होंगे ... हम पुलिस आनेसे पहले झटसे साफ कर सकते है '" कमांड2भी अपने जेबसे रुमाल निकालते हूए बोला.

दोनो रुमालसे कमरेंमे सब जगह, लाईटका स्वीच, बेडका किनारा , बगलमें रखा टेबल सब जल्दी जल्दी साफ करने लगे.

बेडरूममें कहीभी उसके हाथके निशान नही बचे होगे इसकी तसल्ली करके वे हॉलमे चले गए. वहा उन्होने टी पॉय, दरवाजेका हॅन्डल, निचेका फर्श , जहां जहां हाथ लगनेकी गुंजाईश थी वे सब कपडेसे साफ किया. अचानक उन्हे पुलिसकी गाडीका सायरन सुनाई देने लगा. दोनोने तेजीसे एकबार बेडरुममें जाकर इधर उधर नजर दौडाकर कुछ बचातो नही इसकी तसल्ली की. जैसे पुलिस की गाडीका आवाज नजदिक आने लगा वे दौडतेही सामने दरवाजेके पास गए. सावधानीसे, धीरेसे दरवाजा खोलकर वे बाहरकी गतिविधीयोंका अंदाजा लेते हूए वहासे रफु चक्कर हो गए.


.... अचानक कमांड1 अपनी विचारोंकी दुनियासे जागते हूए कुर्सीसे खडा हो गया.

'' क्या हूवा ?" कमांड2 ने पुछा.

" गफल्लत हो गई साली ... एक बहुत बडी गलती हो गई'' कमांड1ने कहा.

कमांड1का नशा पुरी तरह उतरा हूवा था.

'' गलती ... कैसी गलती? कमांड2 ने पुछा.

कमांड1के चेहरेके भाव देखकर कमांड2काभी नशा उतरने लगा था.

'' मेरी उंगलीयोंके निशान अभीभी वहां बाकी रह गए है '' कमांड1ने कहा.

'' हमनेतो सब जगहकी निशानिया मिटाई थी" कमांड2ने कहा.

" नही ... एक जगह साफ करनेका हम भूल गए" कमांड1ने कहा.

" कहां ?" कमांड2ने पुछा.

अबतक कमांड2भी उठकर खडा हूवा था.

"" तुझे याद होगा की ... जब मै हॉलमें किसी चीजसे टकराकर गिरनेवाला था ... तब वहां टी पॉयपर रखे एक कांचके पेपरवेटको मेरा धक्का लगा था ... और वह लुढकते हूए गिरने लगा था... ." कमांड1 बोल रहा था. .

कमांड2 कमांड1की तरफ चिंता भरी नजरोंसे देख रहा था.

" आवाज ना हो इसलिए मैने वह पेपरवेट उठाकर फिरसे उसकी पहली जगह पर रखा था...'" कमांड1ने कहा.

" माय गॉड ... उसपर तेरे उंगलीके निशान मिटाने तो रह ही गए "

कमांड1 गहन सोच मे डूब गया.

" अब क्या करना है ?" कमांड2 ने पुछा.

कमांड1 कुछ बोलनेके मनस्थीतीमें नही था. वह खिडकीके पास जाकर सोचमें डूबा खिडकीके बाहर देखने लगा. कमांड2को क्या करें और क्या बोले कुछ समझ नही रहा था. वह सिर्फ कमांड1की गतिविधीयाँ निहारने लगा. कमांड1 फिरसे खिडकीके पाससे वे दोनो जहां बैठे हूए थे वहां वापस आगया. उसने सामने रखा हूवा व्हिस्कीका ग्लास फिरसे भरा और एकही घूंटमे पुरा ग्लास खाली कर दिया. फिरसे कमांड1 खिडकीके पास गया और अपनी सोचमें डूब गया.

" कुछ ना कुछ तो होगा जो हम कर सकते है'' कमांड2 कमांड1को दिलासा देनेकी कोशीश कर रहा था.

कमांड1 कुछ समय के लिए स्तब्ध खडा रहा और अचानक कुछ सुझे जैसा चिल्लाया,

" यस्स ऽऽ"

" क्या कुछ रास्ता मिला ?" कमांड2 खुशीसे पुछा.

लेकिन कमांड1 कहां वह सब कहनेके मनस्थितीमें था? उसने कमांड2को इशारा किया,

" चल जल्दी ... चल मेरेसाथ चल"

कमांड1 दरवाजेसे बाहर गया और कमांड2 उसके पिछे पिछे असमंजसा चलने लगा.

...to be contd..

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Ch-9A : पहली गलती ? ... (शून्य-उपन्यास)

Next Chapter Previous Chapter

This Novel in English

कमांड1 और कमांड2 कुर्सीपर सुस्ता रहे थे. बॉसने उनको जो काम सौंपा था वह उन्होने अच्छी तरह से निभाया था. इसलिए वे खुश लग रहे थे. उनकी पुरी रात दौडधूपमें गई थी. बैठे बैठे कमांड1को निंदभी आ रही थी. उसके सामने रातका एक एक वाक्या किसी चलचित्रकी तरह आ रहा था...


... रातके 3-3.15 बजे होगे. बाहर कडाके की ठंड थी. इधर उधर देखते हूए बडी सावधानीसे कमांड1 और कमांड2 एक अपार्टमेंटमें घुस गए. आपर्टमेंटमें सब तरफ एक तरह की डरावना सन्नाटा फैला हूवा था. वहा जो भी सेक्यूरीटी तैनात थी, उसका उन्होने पहलेसेही बंदोबस्त करके रखा था. तोभी वे बडी सावधानी बरतते हूए, अपने कदमोंका आवाज ना हो इसका खयाल रखते हूए लिफ्टके पास गए. चारो तरफ अपनी पैनी नजर दौडाते हूए कमांड1ने धीरेसे लिफ्टका बटन दबाया. लिफ्ट खुलतेही आजूबाजू देखते हूए कमांड1 और कमांड2 दोनो लिफ्टमें घुस गए. दोनोंने हाथमें सफेद सॉक्स पहने हूए थे. अपना चेहरा किसीकोभी दिखना नही चाहिए इसलिए उन्होने अपने पहने हूए ओव्हरकोटकी कॉलर खडी की थी. लिफ्टका दरवाजा बंद हूवा कमांड1ने सामने जाकर लिफ्टका बटन दबाया, जिसपर लिखा हूवा था -10.


लिफ्ट दसवे मालेपर आकर रुकी. लिफ्ट का दरवाजा अपने आप खुला. कमांड1 और कमांड2 फिरसे इधर उधर देखते हूए धीरेसे बाहर आ गए. कोई देख नही रहा है इसकी तसल्ली कर वे पॅसेजमें चलने लगे. उनके जूते के तलवेमे मुलायम रबर लगाया होता, क्योंकी वे भलेही तेजीसे चल रहे थे लेकीन उनके जुतोंका बिलकुल आवाज नही आ रहा था. वे 103 नंबरके फ्लॅटके सामने आकर रुके. फिरसे दोनोंने अपनी नजर आजूबाजू दौडाई, कोई नही था. अपने ओव्हरकोटके जेबसे कुछ निकालकर कमांड1ने सामने दरवाजे के की होलमे डालकर घुमाया. बस दो तिन झटके देकर घुमाया और दरवाजेके हॅडलको हलकासा झटका देकर निचे दबाया, दरवाजा खुल गया. दोनोंके चेहरे खुशीसे खिल गए. अंदर घना अंधेरा था.


दोनो धीरेसे फ्लॅटके अंदर घुस गए. उन्होने अपने हाथके सॉक्स निकालकर अपने ओव्हरकोटके जेबमें रख दिए. सॉक्सके अंदर उनके हाथमें रबरके हॅन्डग्लोव्हज पहने हूए थे. उन्होने धीरेसे आवाज ना हो इसकी खबरदारी लेते हूए दरवाजा अंदरसे बंद कर लिया.

हॉलमे अंधेरेमें कमांड1 और कमांड2 जैसे छटपटा रहे थे. अंधेरेमें उन्होने बेडरूमकी तरफ जानेवाले रस्तेका अंदाजा लगाया और वे उस दिशामें चलने लगे. अचानक कमांड1 बिचमें रखे हूए टी पॉयसे टकराया गिरते गिरते उसने बाजूमें रखे एक चिजको पकड लिया और खुदको गिरनेसे बचाया. कमांड2नेभी उसे गिरनेसे बचानेके लिए सहारा दिया. वो गिरनेसे तो बच गया लेकिन दुर्भाग्यसे बगलमें रखे एक गोल कांच के पेपर वेटको उसका धक्का लगा, जिसकी वजहसे वह पेपरवेट लुढकने लगा. कमांड1ने पेपरवेटको बडी चपलतासे पकड लिया और फिरसे उसकी पहली जगहपर रख दिया.

'' अरे यार लायटर लगा ... साला यहां कुछभी नही दिख रहा है....'' कमांड1 दबे स्वरमें लेकिन चिढकर बोला.

कमांड2ने अपने जेबसे लायटर निकालकर जलाया. अब धुंदले प्रकाशमें थोडाबहुत दिखने लगा था. उनके सामनेही एक खुला हुवा दरवाजा था.

बेडरूम इधरही होना चाहिए.....

कमांड1ने सोचा. कमांड1 धीरे धीरे उस दरवाजेकी तरफ बढने लगा. उसके पिछे पिछे कमांड2 चल रहा था. दरवाजेसे अंदर जानेके बाद अंदर उनको बेडपर लिटी हुई कोई आकृती दिखाई दी. कमांड1ने मुंहपर उंगली रख कमांड2को बिलकुल आवाज ना करने की हिदायत दी. कमांड1ने अंधेरेमें टटोलकर बेडरूमका बल्ब जलाया. जो भी कोई लेटा हुवा था शायद घोडे बेचकर सो रहा था, क्योंकी उसके शरीरमें कुछ भी हरकत नही थी. कौन होगा यह जाननेके लिए कोई रास्ता नही था क्योंकी उसने अपने सरको चादरसे ढक लिया था. कमांड1 ने अपने ओवरकोटकी जेबसे बंदूक निकाली. सोये हूए आकृतीपर उसने वह बंदूक तानकर उसके चेहरेपरसे चादर हटाई. वह एक सुंदर स्त्री थी. वह शायद वही थी जो उनको चाहिए थी क्योंकी एक पलकाभी अवकाश ना लेते हूए कमांड1 ने सायलेंसर लगाई बंदुकसे उसपर गोलीयोंकी बौछार कर दी. उसके शरीर में हरकत हूई, लेकीन वह सिर्फ मरनेके पहलेकी छटपटाहट थी. फिरसे उसका शरीर ढीला होकर एक तरफ लूढक गया. निंदसे जगनेकीभी मोहलत कमांड1ने उसको नही दी थी. वह खुनसे लथपथ निश्चल अवस्थामें मरी हूई पडी थी.

" ए, तेरे पासका खंजर देना जरा'' कमांड1 कमांड2को फरमान दिया.

अबतक का उसका दबा स्वर एकदम कडा हो गया था. कमांड2 ने उसके ओवरकोटके जेबसे चाकू निकालकर कमांड1के हाथमें दिया. कमांड1 वह खंजर मुर्देके खुनसे भिगोकर दिवारपर लिखने लगा.
... to be contd...

This Novel in English

Next Chapter Previous Chapter

Enter your email address to SUBSCRIBE the Hindi Novels:

आप HindiNovels.Net इस अंतर्जाल पर आनेवाले

वे आगंतुक है

Marathi Subscribers

English Subscribers

Hindi Subscribers

Social Network

Next Hindi Novels - Comedy, Suspense, Thriller, Romance, Horror, Mystery

1. करने गया कुछ कट गयी साली मुछ (कॉमेडी)
2. मधूराणी (the story of femine power)
3. सायबर लव्ह (लव्ह, सस्पेन्स)
4. अद-भूत (हॉरर, सस्पेंन्स थ्रीलर)
5. मृगजल (लव्ह ड्रामा, सायकॉलॉजीकल थ्रीलर)
6. फेराफेरी (कॉमेडी)
7. लव्ह लाईन (लव्ह, कॉमेडी, सस्पेन्स)
8. ब्लॅकहोल (हॉरर, मिस्ट्री, सस्पेन्स)

About Hindi

Hindi is defined as the official language in the Indian constitution and considered to be a dialect continuum of languages spoken or the name of an Indo-Aryan language. It is spoken mainly in in northern and central parts of India (also called "Hindi belt") The Native speakers of Hindi amounts to around 41% of the overall Indian population. Which is the reason why the entertainment industry in India mainly uses Hindi. The entertainment industry using Hindi is also called as bollywood. Bollywood is the second largest entertainment industry producing movies in the world after Hollywood. Hindi or Modern Standard Hindi is also used along with English as a language of administration of the central government of India. Urdu and Hindi taken together historically also called as Hindustani.